पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57107.15-2.87 %
  • NIFTY17026.45-2.91 %
  • GOLD(MCX 10 GM)481531.33 %
  • SILVER(MCX 1 KG)633740.45 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • 420 Crores Spent On Sewage And Drainage System In 5 Years, Yet Many Areas Are Getting Submerged; Cleaning Of 600 Drains Also Ineffective

गड्‌ढों के बाद सीवरेज की फजीहत, देखें VIDEO:भोपाल में 5 साल में सीवरेज एवं ड्रेनेज सिस्टम पर 420 करोड़ रुपए खर्च, फिर भी जलमग्न हो रहे कई इलाके

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाग सेवनिया में थाली बजाकर प्रशासन को जलभराव की समस्या दिखाते लोग।

मध्यप्रदेश की राजधानी में लोग खराब सड़कों के साथ अब जलभराव से परेशान है। गड्‌ढा कूद प्रतियोगिता के बाद लोग थाली पीटकर समस्या बता रहे हैं, लेकिन कोई नहीं सुन रहा है। भोपाल में सीवरेज एवं ड्रेनेज सिस्टम पर पिछले 5 साल में करीब 420 करोड़ रुपए तक खर्च हो चुके हैं। फिर भी बारिश में राजधानी के कई इलाके जलमग्न हो रहे हैं।

बारिश से पहले नगर निगम द्वारा 600 नालों की सफाई भी बेअसर साबित हो रही है। पिछले दिनों हुई तेज बारिश के कारण कई क्षेत्रों में एक से दो फीट तक पानी भर गया। इस कारण लोगों को परेशानी उठाना पड़ी। अवधपुरी, कोलार, नारियलखेड़ा आदि इलाकों में सड़क से लेकर घर-दुकानों तक में पानी भरने की सबसे अधिक समस्या सामने आ रही है। निगम कमिश्नर केवीएस चौधरी कोलसानी का कहना है कि बारिश से पहले नालों की सफाई कराई गई थी। काफी हद तक समस्या दूर की गई है। जिन इलाकों में जलभराव है, वहां निकासी की व्यवस्था की गई है।

हाल ही में हुई तेज बारिश के कारण वार्ड-54 की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, बाग सेवनिया आदि इलाकों में नाले का पानी घरों में भर गया। कमलेश शुक्ला ने बताया कि बरकतउल्ला यूनिवर्सिटी का पूरा पानी बाहर रोड पर आता है और फिर घरों में घुस जाता है। इस कारण घरों में एक फीट तक पानी जमा हो जाता है। जब भी तेज बारिश होती है तो ऐसे हालात बनते हैं। नयापुरा व ललिता नगर में बारिश का पानी एक दर्जन से अधिक दुकानदारों के लिए परेशानी की वजह बन गया है। निगम ने रोड ऊंची कर दी। इससे पानी दुकानों में भर जाता है। मंदाकिनी चौराहा स्थित कॉमर्शियल कॉम्पलेक्स में एक फीट तक पानी भर जाता है।

बाग मुगालिया एक्सटेंशन कॉलोनी विकास समिति के अध्यक्ष उमाशंकर तिवारी ने बताया कि कॉलोनी में सीवेज की 3 लाइनें टूटी हुई है। इस कारण 2 साल से बारिश के दिनों में परेशानी उठा रहे हैं। सीवेज सिस्टम सुधर जाए तो परेशानी दूर हो जाएगी। इसे लेकर हाल ही में थाली बजाकर प्रदर्शन भी किया गया। इसी तरह दानिश नगर कॉलोनी की महिलाओं ने भी प्रदर्शन किया था।

इन इलाकों में भी जलभराव की समस्या

  • अवधपुरी में वायु रॉयल एन्क्लेव एवं सौम्या ग्रीन सिटी के बीच सड़क पर एक फीट तक नाले का पानी जमा है। इस कारण लोगों को गुजरने में परेशानी हो रही है। रहवासी अजय सिंह ने बताया कि जलभराव की समस्या के बारे में नगर निगम को शिकायत की गई है, पर समस्या दूर नहीं की गई। कई दिन से यह समस्या बनी हुई है।
  • दानिश नगर कॉलोनी में घरों में एक फीट तक पानी भर जाता है। नाले-नालियों का गंदा पानी घरों में घुस जाता है और लोगों को परेशानी उठाना पड़ती है।
  • सैफिया कॉलेज के पास, ज्योति टॉकीज चौराहा, तुलसी नगर, सिंधी कॉलोनी चौराहा आदि जगह भी परेशानी खड़ी हो रही है।
भोपाल की कई कॉलोनियों में इस तरह से जलभराव की समस्या है।
भोपाल की कई कॉलोनियों में इस तरह से जलभराव की समस्या है।

पिछली बार ऐसे बने थे हालात

  • इंडस गार्डन में ग्राउंड फ्लोर में पानी भर गया था। पुलिस, जिला प्रशासन व निगम ने रेस्क्यू कर कई लोगों को सुरक्षित निकाला था।
  • दामखेड़ा में पानी भरने से कई झुग्गियां डूब गई थीं। यहां बड़ा नुकसान हुआ था।
  • शाहपुरा तालाब का पानी ओवरफ्लो होने से आसपास के घर-दुकानों में घुस गया था।
  • जाटखेड़ी, शिवनगर करोंद, भोपाल टॉकीज, घोड़ा नक्कास में भी पानी भर गया था।

ये बड़ी वजह जलभराव की

  • नालों की सही ढंग से सफाई न होना।
  • नाले और तालाब किनारे ही मकान बन जाना।
  • सड़कों की ऊंचाई अधिक होना और दुकान-मकान की हाइट कम होना।
  • कई कॉलोनियों में सीवेज सिस्टम खस्ताहाल है। इस कारण गंदा पानी घरों में घुस जाता है।
खबरें और भी हैं...