पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Guna
  • Everyone Said In One Voice – Ban On Big Programs, Screening On Borders; Emphasis Should Be On Increasing Vaccination

जानिए...गुना में क्या हैं संकट समूह के सदस्यों के सुझाव:सभी ने एक स्वर में कहा- बड़े कार्यक्रमों पर लगे रोक, सीमाओं पर हो स्क्रीनिंग; वैक्सीनेशन बढ़ाने पर हो जोर

गुना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
RTO ने जगह-जगह बसों और यात्री वाहनों की चेकिंग की। - Money Bhaskar
RTO ने जगह-जगह बसों और यात्री वाहनों की चेकिंग की।

शुक्रवार को CM शिवराज सिंह चौहान सभी जिलों की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों से बात कर सकते हैं। प्रदेश सहित जिले में लगातार केस बढ़ रहे हैं। गुरुवार को जिले में 12 संक्रमित मिले हैं। इनमें DFO भी संक्रमित हुए हैं। जिले में अब पॉजिटिव केसों की संख्या 60 से ऊपर हो गयी है। गुरुवार को एक मरीज स्वस्थ होकर काम पर लौटे हैं। जिले में कोरोना के बढ़ते केसों के संख्या को देखते हुए क्राइसिस मैनेजमेंट समितियां अब एक्टिव हो गयी हैं। भास्कर ने क्राइसिस मैनेजमेंट के सदस्यों से उनके सुझाव मांगे।

ममता मीना (पूर्व विधायक)

-सबसे पहले सीमा पर चौकसी बढ़ानी चाहिए। अन्य राज्यों, जिलों से आने वाले लोगों की सीमा पर ही स्क्रीनिंग हो। अभी वहां से बेरोकटोक आवाजाही जारी है। साथ ही बड़े कार्यक्रमों पर भी रोक लगनी चाहिए। बड़े कार्यक्रमों से ही कोरोना तेजी से फैलता है। शादियों का सीजन आने वाला है। शादी समारोह में कोरोना गाइड लाइन का पालन अनिवार्य होना चाहिए। साथ ही सभी नागरिकों को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। इसके लिये प्रशासन को सख्ती करनी चाहिए ताकि मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके। साथ ही टीकाकरण की गति को भी और तेज करने की आवश्यकता है।

गजेंद्र सिकरवार (BJP जिलाध्यक्ष)

-बड़े कार्यक्रमों पर रोक का सुझाव देंगे। प्रशासन को इस पर सख्ती करनी चाहिए। छोटे-छोटे कार्यक्रम हों, लेकिन बड़े कार्यक्रमों पर रोक लगे। साथ ही अब ज्यादा से ज्यादा जनजागरण चलाना चाहिए। लोग लापरवाह हो गए हैं। ना ही मास्क लगा रहे हैं और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा है। इन पर भी सख्ती करने की जरूरत है। ग्रामीण इलाकों में लोगों को जागरूक करने की जरूरत ज्यादा है। नागरिकों से भी यह अपेक्षा है कि जब तक बहुत जरूरी काम न हो, घर पर ही रहें। आवश्यक काम होने पर ही घर से निकलें।

हरिशंकर विजयवर्गीय (कांग्रेस जिलाध्यक्ष)

-कोरोना के केस जिला प्रशासन की सख्त कार्यवाही नहीं होने के कारण बड़ रहे है। पिछले दिनों BJP ने कोरोना गाइडलाइन का उलंघन कर मशाल जलूस निकाला, भीड़ इकट्ठा की। उन पर क्या कार्यवाही हुई। ज्यादा संख्या में कोरोना की जांच करने की आवश्यकता है। अभी बहुत सीमित संख्या में ही जांच की जा रही है। इसे बढ़ाना चाहिए। जिला अस्पताल की हालत किसी से छिपी नही है। न वेंटिलेटर हैं, न सोनोग्राफी होती और न ही पर्याप्त मात्रा में डॉक्टर हैं। इस कमी की ओर भी ध्यान देना चाहिए। शहर की सभी सामाजिक संस्था और प्रशासन को मिलकर कोरोना से बचाब के लिए जागरूकता अभियान चलाने की बहुत जरूरत है।

विनीत सेठ (सोशल वर्कर)

-कोरोना के बड़ रहे केसेज़ को देखते हुए आगामी समय हमारे गुना के लिए चुनौती भरा है। इस बार करोना का स्वरूप घातक भले ही न हो, लेकिन फैलने की गति बहुत तेज है। शासन-प्रशासन अपने स्तर पर तो तैयारियाँ कर चुका है। अब बारी नागरिकों की है। मास्क लगाना, भीड़ से दूर रहना होगा। बच्चों को वैक्सिनेशन जल्द से जल्द पूरा करवाना चाहिए। इसी से ही अपने परिवार व शहर को सुरक्षित रखा जा सकता है।

कलेक्टर फ्रैंक नोबल ने कहा कि केस बढ़ना चिंता का विषय है। अभी पाबंदियों के बारे में दिशा-निर्देश नहीं आये हैं। मुख्यमंत्री के साथ क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जो निकलकर हएगा और शासन से जो निर्देश मिलेंगे, उनका पालन किया जाएगा। फिलहाल तो यही है कि नागरिक कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करें। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखें। जिले में 23 फीवर क्लीनिकों और बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर भी सैंपलिंग की जा रही है। साथ ही बाहर से आने वाले व्यक्तियों की रेलवे स्टेशन पर सैंपल लिए जा रहे हैं। वहीं दूसरे जिलों से आने वाले लोगों की निगरानी की जा रही है।

खबरें और भी हैं...