पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकारी आवास खाली करने का मामला:डॉक्टर दंपती बोले- सरकारी आवास खाली कर देंगे पर दूसरी जगह आवास दिया जाए

अशोकनगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शासकीय अस्पताल में सरकारी आवास आवंटित करवाने की मांग मुंगावली अस्पताल स्टाफ ने की है। जिसके लिए सीएम के नाम आवेदन दिया है। डॉ. योगेंद्र सिंह ने बताया कि मैं और मेरी पत्नी डॉ. नीलिमा सिंह मुंगावली अस्पताल में पदस्थ हैं। हम पीएम हाउस से सटे हुए एक शासकीय आवास आवंटित है जिसमें अपनी बेटियों के साथ रहते हैं। शासन द्वारा शासकीय आवास खाली करने को कहा जा रहा है। शासन कह रहा है कि इस आवास को तोड़कर यहां एक लैब बनाएंगे, एक रास्ता बनाएंगे जो अस्पताल मुंगावली में बन रही बिल्डिंग को अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग से जोड़ेगा।

अस्पताल की पुरानी बिल्डिंग को नई बिल्डिंग से जोड़ने के लिए डॉक्टर आवास के बगल में काफी जगह पड़ी है। बिना डॉक्टर आवास काे तोड़े हुए भी बन रही बिल्डिंग को पुरानी बिल्डिंग से जोड़ा जा रहा है। तोड़े जाने वाला आवास 2013 में ही बनकर तैयार हुआ है। हम शासकीय आवास को खाली करने के लिए तैयार हैं लेकिन हमें अन्य जगह शासकीय आवास आवंटित किया जाए। अस्पताल परिसर में दो अन्य शासकीय आवास हैं जो दो अन्य डॉक्टरों को आवंटित किए गए हैं जबकि इन दोनों डॉक्टर्स के निजी घर, अस्पताल मुंगावली से 100 से 300 मीटर की दूरी पर हैं। दोनों इन निजी घरों में कई सालों से परिवार सहित रह रहे हैं।

अपने रसूख का इस्तेमाल करते हुए शासकीय आवास आवंटित करा रखे हैं। एसडीएम द्वारा बेदखली का नोटिस भी दिया गया है। उन्होंने 22 जनवरी तक आवास खाली करने को बोला है अन्यथा पुलिस द्वारा खाली कराए जाने की चेतावनी दी है।

खबरें और भी हैं...