पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60799.85-0.2 %
  • NIFTY18122.75-0.3 %
  • GOLD(MCX 10 GM)475300.32 %
  • SILVER(MCX 1 KG)648840.32 %
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Woman's Condition Deteriorated After Delivery, Relatives Brought District Hospital For Treatment, Doctors Died Due To Treatment, Relatives Blocked

इलाज में देरी से प्रसूता की मौत:प्रसव के बाद महिला की बिगड़ी हालत, उपचार के लिए परिजन लाए जिला अस्पताल, इलाज में लापरवाही बरतने से मौत, परिजन बिफरे

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रसूता की मौत के बाद परिजनों ने शव को रखा सड़क पर। - Money Bhaskar
प्रसूता की मौत के बाद परिजनों ने शव को रखा सड़क पर।

भिंड जिला अस्पताल में एक बार फिर से उपचार में लेट लतीफी के कारण एक प्रसूता को जान से हाथ धोना पड़ा। अटेर में बच्चे को जन्म देने के बाद जब प्रसूता की तबियत बिगड़ी तो उसे जिला अस्पताल लाया गया। यहां उपचार समय पर शुरू न होने से उसकी मौत हो गई। मृतक के परिजनों ने चक्का जाम लगाया। पुलिस प्रशासन ने जाम काे तत्काल खुलवाया। इधर जिला अस्पताल प्रबंधन ने पूरे मामले की जांच शुरू कर दी।

दरअसल, उत्तरप्रदेश के आगरा जिला बाह तहसील के ग्राम बिट्ठोना गांव निवासी 24 वर्षीय रीना पत्नी अजय वाल्मीकि बीते रोज पिता के निधन पर मायके अटेर के जोशी नगर में आईं थी। महिला रीना को प्रसव पीड़ा शुरू हुई। जेठ विजय वाल्मीकि ने 108 पर एंबुलेंस के लिए काल किया, लेकिन एंबुलेंस काल सेंटर से एंबुलेंस उपलब्ध नहीं होने की बात कही गई। ऐसे में जेठ विजय वाल्मीकि बाइक पर बैठाकर रीना को अटेर अस्पताल लेकर पहुंचे।

मृतक रीना।
मृतक रीना।

अटेर अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में रीना को भर्ती कर लिया गया था। जेठ विजय का कहना है अटेर में स्टाफ ने चेकअप कर सुबह नार्मल डिलीवरी होने की बात कही थी। सुबह करीब 10 बजे रीना ने बेटी को जन्म दिया। जन्म के बाद रीना की तबीयत बिगड़ी तो वहां से उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। जेठ का कहना है कि वे स्वजन के साथ बहू रीना को जिला अस्पताल लेकर आए, लेकिन यहां करीब एक से डेढ़ घंटे तक रीना को इलाज नहीं मिल पाया। इस दौरान दोपहर के पश्चात रीना ने दम तोड़ दी। इसके बाद परिजन आक्रोशित हो गए। परिजनों का आक्रोश को भांपकर अस्पताल चौकी के पुलिसकर्मियों ने समझाइश देकर शव डेड हाउस भिजवाने के लिए कहा, लेकिन मृतिका रीना की चाची रामकलां वाल्मीकि व अन्य परिजन शव को स्ट्रैक्चर समेत जिला अस्पताल के बाहर लेकर आ गए। जिला अस्पताल के बाहर सड़क पर चक्काजाम कर दिया। यहां ट्रैफिक टीआइ रंजीत सिंह सिकरवार स्वजन को समझाइश देने पहंुचे। टीआइ सिकरवार की समझाइश से स्वजन ने चक्काजाम खोल दिया।

इस मामले में सिविल सर्जन डॉ अनिल गोयल का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। ड्यूटी पर तैनात स्टाफ के मुताबिक महिला मृत अवस्था में जिला अस्पताल में आई थी।