पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंचकल्याणक प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव:गणाचार्य ने कहा वैशाख शुक्ल तृतीया का संस्कृति में बड़ा महत्व

भिंड4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंचकल्याणक प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में महामुनिराज को राजा श्रेयांस ने दिया आहार
शहर के कीर्ति जैन स्तंभ मंदिर में सकल जैन समाज द्वारा पंचकल्याण प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। धार्मिक कार्यक्रम के चौथे दिन रविवार को भगवान आदि कुमार आहार के लिए निकले तथा समवशरण की मनोहारी रचना की गयी। जिसमें भगवान आदि कुमार ने लोक कल्याण के लिए प्रथम धर्मोपदेश दिया, जिसे जैन धर्म में दिव्य ध्वनि का खिरना कहा गया है। वहीं अनेक विद्वानों के प्रवचन हुए।

धार्मिक कार्यक्रम के दौरान रविवार सुबह तीर्थंकर आदि कुमार दीक्षा के उपरांत मौन धारण कर तपस्या के लिए धर्म ध्यान में लीन हुए। छप्पन दिन की तपस्या के उपरांत उन्होंने कर्मों का क्षय कर केवल ज्ञान प्राप्त किया। तत्पश्चात मुनि अवस्था में भगवान आहार के लिए निकले, आहार में राजा श्रेयांस ने गन्ने के रस भगवान को दिया। वहीं सौधर्म इंद्र ने यह अवधिज्ञान से यह जानकर भगवान के दर्शन कर पूजन किया तथा कुबेर को समवशरण की रचना करने का आदेश दिया।

श्रमण संस्कृति के साथ युग का प्रारंभ माना जाता है वैशाख शुक्ल तृतीया

समवशरण के दौरान गणाचार्य विराग सागर महाराज ने कहा कि भारतीय संस्‍कृति में वैशाख शुक्ल तृतीया का बहुत बड़ा महत्व है। इसे अक्षय तृतीया भी कहा जाता है, जैन दर्शन में इसे श्रमण संस्कृति के साथ युग का प्रारंभ माना जाता है। जैन दर्शन के अनुसार भरत क्षेत्र में युग का परिवर्तन भोग भूमि व कर्म भूमि के रूप में हुआ। भोग भूमि में कृषि व कर्मों की आवश्यकता नहीं उसमें कल्पवृक्ष होते हैं। जिससे प्राणी को मनवांछित पदार्थों की प्राप्ति हो जाती है। कर्म भूमि युग में कल्पवृक्ष भी धीरे धीरे समाप्त हो जाते है और जीविकों को कृषि आदि पर निर्भर रह कर कार्य करने पढ़ते हैं।

उन्होंने बताया कि जैन धर्म में समवशरण सबको शरण तीर्थंकर के दिव्‍य उपदेश भवन के लिए प्रयोग किया जाता है। समवशरण दो शब्‍दों के मेल से बना है सम अर्थात सबको और अवसर जहां सबको ज्ञान पाने का समान अवसर मिले वह है समवशरण है। यह तीर्थंकर के केवलज्ञान प्राप्त करने के पश्चात बनाया जाता है। वहां पर उपस्थित जनों ने अपनी अपनी शंकाओं के समाधान के लिए गणाचार्य से प्रश्न पूछे और उन्होंने उनका समाधान किया। इन अवसर पर विधायक संजीव सिंह कुशवाह, कांग्रे स नेता देवाशीष जरारिया, सेवादल कांग्रेस अध्यक्ष संदीप मिश्रा, संजय जैन, मनोज जैन आदि मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...