पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Both The Brothers Used To Work In The Illegal Liquor Factory And Brought Liquor From There And Spilled The Jam With The Family.

खुलासा:अवैध शराब की फैक्ट्री में काम करते थे दोनों भाई वहीं से शराब लाकर परिवार के साथ छलकाए जाम

भिंड4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इंदुर्खी गांव में दो सगे भाइयों की हुई संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में खुलासा
  • पिता व एक युवक की हालत में सुधार, रिपोर्ट में नहीं आई शराब की बात

रौन थाना क्षेत्र के इंदुर्खी गांव में दो सगे भाइयों की हुई संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि दोनों लोग भिंड शहर में संचालित एक अवैध शराब की फैक्ट्री पर मजदूरी करते थे। यानि वे यहां पर ओपी से शराब बनाकर क्वार्टर पैक करते थे। 13 जनवरी की शाम को फैक्ट्री से शराब लेकर घर गए। जहां परिवार के साथ उन्होंने रात के समय जाम छलकाए। इसके बाद अगले दिन रात के समय उनकी हालत बिगड़ना शुरू हुई, जिसमें दोनाें सगे भाइयों की मौत हो गई। जबकि उनके पिता व एक अन्य युवक की हालत में सुधार है। हालांकि डाक्टर्स ने अब तक अपनी रिपोर्ट में शराब के सेवन से मौत होने का कोई जिक्र नहीं किया है।

बता दें कि इंदुर्खी निवासी नरेंद्र जाटव के बेटे मनीष (25) और छोटू (22) गांव के ही लाखन पुत्र लालाराम जाटव, छोटे पुत्र पुत्तू जाटव के साथ मजदूरी करते हैं। वे उनके साथ गांव में ही महेश, छुट्टो पुत्रगण लाखनलाल, आशीष उर्फ गोलू पुत्र महेश कुमार के यहां मजदूरी करने गए थे। रात करीब 9 बजे उनकी तबीयत खराब होने लगी। इस पर मनीष को उपचार के लिए रौन अस्पताल लाया गया। लेकिन वहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए डाॅक्टर ने उसे भिंड जिला अस्पताल के लिए रैफर कर दिया। भिंड अस्पताल में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।

इधर घर पर छोटे बेटे छोटू की तबियत बिगड़ने लगी। घर के लोग उसे भी उपचार के लिए रौन अस्पताल के लिए दौड़े। लेकिन रास्ते में मेहदवा के पास उसकी भी मौत हो गई। वहीं अगले दिन उनके साथ शराब पीने वाले शिव सिंह की भी हालत बिगड़ने लगी, जिसे उपचार के लिए ग्वालियर भर्ती कराया गया है।

भिंड शहर में चल रही अवैध शराब की फैक्ट्री, मालिक हुए फरार
प्रारंभिक पड़ताल में पता चला है कि मृतक दोनों सगे भाई भिंड शहर के स्वतंत्र नगर इलाके में महेश, छुट्टो पुत्रगण लाखनलाल, आशीष उर्फ गोलू पुत्र महेश कुमार की शराब फैक्ट्री में क्वार्टर पैक करने का काम करते थे। साथ ही मजदूरी लेने के साथ वे यहां से शराब के क्वार्टर भी लेकर जाते थे। दोनों की मौत की सूचना पाकर फैक्ट्री मालिक फरार हो गए हैं, जिनकी पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। आबकारी महकमा भी अलर्ट मोड में आ गया है। रविवार की दोपहर आबकारी की टीम ने रौन में अंग्रेजी शराब की दुकान पर कार्रवाई करती हुई नजर आई। इसी प्रकार से पुलिस ने भी अवैध शराब का कारोबार करने वालों के संभावित ठिकानों पर दबिश दी।

शराब की बात आते ही छुट्टी से वापस लौटे एसपी
रौन थाना क्षेत्र के इंदुर्खी गांव में दो सगे भाईयों की शराब पीने से हुई मौत की बात सामने जैसे ही पुलिस तक पहुंची, पुलिस अलर्ट हो गई। दो दिन के अवकाश पर जिला मुख्याल छोड़ चुके एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने शुक्रवार की रात ही भिंड के लिए रवानगी डाल दी। इधर शनिवार की रात ही चंबल डीआईजी ललित शाक्यवार भी इंदुर्खी गांव पहुंच गए। जहां उन्होंने लोगों से बातचीत की। लेकिन शुरुआती दौर में परिजन शराब पीने की बात छिपाते रहे। यहां तक कि परिजन मृतकों के शवों का पीएम कराने के लिए भी राजी नहीं थे। बाद में पुलिस की समझाइश के बाद उन्होंने मृतकों के शवों का पीएम कराया।

परिजन छिपा रहे थे शराब के सेवन की बात
दो सगे भाइयों की मौत के मामले में परिजन शुरुआती दौर से ही शराब पीने वाली बात छिपा रहे थे। लेकिन जब पुलिस को मुखबिरों के जरिए पता चला कि दोनों सगे भाई भिंड में संचालित एक अवैध शराब फैक्ट्री पर काम करने जाते थे। तब पुलिस ने उनसे बारीकी से पूछताछ की, जिसके बाद अब उन्होंने यह तो स्वीकार लिया है कि उनके बेटे शराब पीते थे। साथ ही 13 जनवरी, गुरुवार की रात उन्होंने शराब पी थी। हालांकि मेडिकल रिपोर्ट में डाॅक्टर्स ने दोनों की मौत के कारण में एल्कोहल या शराब जैसी किसी चीज का जिक्र नहीं किया है। वहीं तीसरे युवक शिव सिंह और मृतकों के पिता नरेंद्र सिंह की हालत में भी सुधार है।

माैत का सही कारण अभी स्पष्ट नहीं, बिसरा भेजा है
दो सगे भाईयों की मौत के मामले में डाक्टर्स ने अभी तक स्पष्ट अभिमत नहीं दिया है। उनका बिसरा प्रिजर्व कर जांच के लिए भेजा गया है। जो युवक बीमार है वह अब स्वस्थ्य है। मामले में हर एंगल से जांच पड़ताल की जा रही है। - शैलेंद्र सिंह चौहान, एसपी भिंड

खबरें और भी हैं...