पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Mp
  • Bhind
  • Gohad
  • Due To Lack Of Bridge, The Villagers Coming Out Of The Pipe, If The Water In The Canal Increases, Then The Accident Is Certain

मुख्य कैनाल नहर के ऊपर बनना है पुल:पुल नहीं होने से पाइप के ऊपर से निकल रहे ग्रामीण, नहर में पानी बढ़ा तो हादसा तय

गोहद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राय की पाली और जस्तपुरा के बीच से निकली मुख्य कैनाल नहर के ऊपर आवागमन के लिए पक्के पुल का निर्माण होना है। लेकिन टेंडर जारी होने के बाद भी अभी तक ठेकेदार द्वारा निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है। ऐसी स्थिति में ग्रामीण सहित यात्री वाहन कच्चे पुल से नहर को पार कर रहे हैं। वहीं लोगों को हादसा होने का डर भी सता रहा है। गुरुवार को स्थानीय ग्रामीणों ने प्रशासनिक अधिकारियों से जल्द पुल का निर्माण कार्य शुरू कराने की मांग की।

गौरतलब है कि मुख्य कैनाल नहर पर बना पुराना पक्का पुल क्षतिग्रस्त होने के चलते वर्ष 2021 में जल संसाधन विभाग द्वारा तुड़वा दिया गया था, साथ ही विभागीय अधिकारियों ने आवागमन के लिए नहर में सीमेंट के दो बड़े पाइप डलवा कर कच्चा पुल का निर्माण कराया था। लेकिन वर्तमान में नहर में पानी आ जाने से कच्चे पुल की मिट्टी में कटाव होने लगा है। जिससे कच्चा पुल कभी भी पानी में बह सकता है।

12 गांव के लोगों का होता है निकलना
ग्रामीण सुखदेव सिंह, सरदार कुलवंत सिंह का कहना है कि मुख्य कैनाल नहर के ऊपर बने कच्चे पुल के ऊपर से रायकी पाली, जस्तपुरा, कनीपुरा, ऐनो, लोधे की पाली, सुहांस सहित 12 गांव के ग्रामीणों का निकलना होता है। वहीं इस कच्चे पुल के ऊपर से अंबाह, पोरसा के लिए जाने वाल और स्कूल वाहन भी रोजाना निकलते हैं। लेकिन नहर में पानी चलने से पुल की मिट्टी में कटाव होने लगा है। जिसके चलते कभी भी पुल के पाइप पानी में बह सकते हैं। जिसके चलते हम ग्रामीणों को हादसा होने का डर सता रहा है।

बारिश में निकलना हो जाता है मुश्किल
ग्रामीण बताते हैं कि बारिश के दिनों में नहर पर बना कच्चे पुल दलदल में तब्दील हो जाता है। जिसके कारण राहगीरों का पुल के ऊपर से निकला मुश्किल हो जाता है। पुल के ऊपर पड़ी मिट्टी में वाहन फिसलते हैं। जिसके कारण वे वहां पर फंस जाते हैं और जाम लग जाता है। प्रशासन से हमारी मांग है कि नहर के ऊपर जल्द से जल्द पक्के पुल का निर्माण कार्य शुरू कराया जाए। जिससे राहगीरों का आवागमन सुगम हो सके।

पांच महीने पहले हुआ था पुल निर्माण का टेंडर
ग्रामीण राघवेंद्र सिंह तोमर, राजू काका बताते हैं कि नहर के ऊपर फिर से पक्के पुल निर्माण पीडब्ल्यूडी को कराना है। पांच माह पहले विभाग द्वारा पुल बनाने का टेंडर प्रताप कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया। लेकिन अभी तक ठेकेदार द्वारा निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है। इस वजह से रोज सैकड़ों लोग जान जोखिम में डालकर निकल रहे हैं।

अभी नहर में पानी इसलिए मार्च में शुरू होगा काम
"रबी सीजन की फसलों के लिए नहर में पानी छोड़ा गया है, ऐसे में पुल का निर्माण शुरू नहीं हो सकता। किसानों को पानी 15 मार्च तक मिलेगा। जिसके बाद पुल बनाने का काम शुरू कराया जाएगा।''
-अंजुल दोहरे, ई-जल संसाधन विभाग, गोहद

खबरें और भी हैं...