पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

5वीं पास चपरासी ने ली 8वीं की क्लास:सरकारी स्कूल में से नदारद रहे सभी शिक्षक, बीईओ बोले- कटेगा वेतन, होगी कार्रवाई

आलमपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भिंड जिले के आलमपुर में संकुल के शासकीय विद्यालयों में पढ़ाई का स्तर लगातार गिरता जा रहा है। ताजा मामला आलमपुर के शासकीय कन्या विद्यालय का है। यहां नियुक्त शिक्षक अनुपस्थिति थे, तो चपरासी ने ही बच्चों की क्लास ले ली। चपरासी ने 8वीं तक के बच्चों को पढ़ाया। दैनिक भास्कर टीम जब शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में पहुंची, तो वहां पदस्थ पांचों शिक्षक नदारद थे।

इस शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में पांच शिक्षक पदस्थ है। विद्यालय के प्रधानाध्यापक अरविंद कुमार झा 9 नवंबर से 8 दिसंबर तक बीएलओ ड्यूटी पर हैं। शिक्षक अरविंद दीबोलिया 21 से 26 नवंबर तक मेडीकल अवकाश पर हैं। 19 नवंबर को शिक्षक इमरान खान को विद्यालय का प्रभार दिया था, लेकिन 24 नवंबर को संकुल प्रभारी ने एक पत्र जारी कर इमरान खान को दो दिन के लिए शाहपुरा नं. 2 विद्यालय भेज दिया।

25 नवंबर को सुरेंद्र सिंह कौरव को विद्यालय का प्रभार दिया, लेकिन सुरेंद्र कौरव 26 नवंबर को अवकाश पर चले गए। शनिवार को ही शिक्षिका रंजना गुप्ता ने संकुल केंद्र के व्हाट्सएप ग्रुप में मेडीकल लीव पर जाने का आवेदन डाल दिया। इस तरह पांचों शिक्षक स्कूल में मौजूद नहीं रहे। इस दौरान चपरासी महेश रायकवार ने 103 छात्राओं को पढ़ाया।

पांचवी पास चपरासी ने आठवीं की छात्राओं को पढ़ाया

आलमपुर के शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय में पदस्थ चपरासी महेश रायकवार पांचवी पास हैं। शनिवार को विद्यालय के शिक्षकों की अनुपस्थिति में वह कक्षा 6, 7 और 8 तक की छात्राओं को पढ़ाते नजर आया।

संकुल के विद्यालयों में लगातार लापरवाही

आलमपुर संकुल केंद्र के शासकीय विद्यालयों में लगातार लापरवाही देखने को मिल रहीं हैं। कुछ दिन पहले शाहपुरा नं. 2 में चारों शिक्षकों का एक साथ तबादला हो गया। स्कूल में दो दिन ताला लगा रहा। बुधवार को शासकीय एकीकृत हाई स्कूल गांगेपुरा का भी मामला सामने आया था, इसमें विद्यार्थियों के परिजनों ने विद्यालय में पढ़ाई न होने और अभिभावकों से अभद्रता करने के भी आरोप लगाए थे। इस मामले में शिक्षा विभाग जांच करवा रहा है।

मेरी जानकारी में नहीं- प्रधानाध्यापक

इस संबंध में विद्यालय के प्रधानाध्यापक अरविंद कुमार झा का कहना है कि मेरी ड्यूटी बीएलओ में 9 नवंबर से 8 दिसंबर तक लगी है। सभी लोग एक साथ कैसे छुट्टी चले गए मेरी जानकारी में नहीं है।

जांच करवाकर करेंगे कार्रवाई- बीईओ

इस मामले में लहार BEO कोमल सिंह परिहार का कहना है कि यह बड़ी लापरवाही है। एक साथ सभी शिक्षक मेडिकल और छुट्टी पर कैसे चले गए? जिन शिक्षकों ने ग्रुप पर छुट्टी के आवेदन डाले थे, उनका वेतन काटा जाएगा। जांच करवाकर उचित कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...