पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बालाघाट में क्रमिक भूख हड़ताल का 5वां दिन:सीएमएचओ और बीएमओ ने वैकल्पिक व्यवस्था करने का दिया भरोसा, नहीं माने ग्रामीण

बालाघाटएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बालाघाट में तिरोड़ी के सरकारी अस्पताल में लंबे समय से एमबीबीएस चिकित्सकों के दो रिक्त पदों को भरने और क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सेवा देने की मांग को लेकर जारी ग्रामीणों की क्रमिक भूख हड़ताल का मंगलवार को पांचवां दिन है।

बता दें कि डॉक्टर के अभाव में तिरोड़ी व आसपास के 35 गांवों की करीब 30-32 हजार की आबादी को नीम-हकीमों व प्राइवेट अस्पतालों में उपचार कराना पड़ रहा है।

हाल ही में जब से एमबीबीएस चिकित्सकों की अस्पतालों में नियुक्ति किए जाने की चर्चा चल रही हैं, तब से इस मांग ने और अधिक जोर पकड़ लिया है। इसके लिए बीते पांच दिन से अपनी मांग को लेकर गांधी प्रतिमा के समक्ष शांतिपूर्ण तरीके से क्रमिक भूख हड़ताल कर रहे हैं।

मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनोज पांडे और ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ. पंकज दुबे (कटंगी) ग्रामीणों से मंगलवार सुबह मिलने पहुंचे। उन्होंने हड़तालियों से चर्चा कर 23 मई से दो-दो दिन के लिए दो डॉक्टरों की वैकल्पिक व्यवस्था करने की बात कही, लेकिन ग्रामीणों ने इसे कोरा आश्वासन मानकर अस्वीकार कर दिया और भूख हड़ताल ऐसे ही जारी रखने की बात कही।

ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि 23 मई तक नियमित डॉक्टर की नियुक्ति न होने पर 24 मई से उग्र आंदोलन किया जाएगा।

हमारे हाथ में कुछ नहीं

सीएमएचओ डॉ. मनोज पांडे ने कहा कि हमारे हाथ में कुछ नहीं है। ये भोपाल लेवल से होगा। तिरोड़ी के शासकीय अस्पताल में 22 मई के बाद वैकल्पिक व्यवस्था कर सकते हैं। हम दो एमबीबीएस डॉक्टर की व्यवस्था कर देंगे जो तीन-तीन दिन अस्पताल में सेवाएं देंगे। परमानेंट पोस्टिंग हमारे हाथ में नहीं है।

खबरें और भी हैं...