पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आपातकाल था काला दिवस:प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक ने कहा- कांग्रेस के डीएनए में लोकतंत्र का विरोध करना है

रांची2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंच पर बैठे प्रेम मित्तल, प्रमोद मिश्र, दीपक प्रकाश व सूर्यमणि सिंह। - Money Bhaskar
मंच पर बैठे प्रेम मित्तल, प्रमोद मिश्र, दीपक प्रकाश व सूर्यमणि सिंह।

भाजपा ने शनिवार को आपातकाल की बरसी पर देशभर में काला दिवस मनाया। इस मौके पर आयोजित संगोष्ठी में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा, आपातकाल विरोधी सेनानियों ने आजादी की दूसरी लड़ाई लड़ी है। कांग्रेस के डीएनए में लोकतंत्र का विरोध करना है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी के शासनकाल में सत्ता के लिए लोकतंत्र की हत्या करने की कोशिश हुई।

आपातकाल देश के लोकतांत्रिक इतिहास में काला अध्याय है। उस समय तानाशाही के बल पर लोकतंत्र के 34988 सेनानियों को मीसा में बंदी बनाया, 75818 लोगों को डीआईआर के तहत जेल में बंद किया गया। एक लाख से ज्यादा लोग लोकतंत्र की रक्षा के लिए गिरफ्तार हुए। कांग्रेस का इतिहास ही लोकतंत्र विरोधी है, तभी तो आज भी सोनिया गांधी व राहुल गांधी को न्यायपालिका पर विश्वास नहीं है।

चुनाव आयोग पर विश्वास नहीं है। जब कांग्रेस के भ्रष्टाचार के मामले उजागर होते हैं, तो सीएजी से भरोसा उठ जाता है। कार्यक्रम सूर्यमणि सिंह, प्रमोद मिश्र, रामचंद्र केसरी, सूरज मंडल ने भी संबोधित किया। संचालन प्रेम मित्तल ने स्वागत भाषण और धन्यवाद ज्ञापन अजय राय ने किया। कार्यक्रम में मीसा के तहत जेल गए लोगों को सम्मानित किया गया।

राजेश ने कहा- जिनका अंग्रेजों से माफी मांगने का इतिहास, उन्हें कांग्रेस के निर्णयों पर प्रश्न करने का हक नहीं

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने आपातकाल के विरोध में काला दिवस मनानेवालों को नसीहत देते हुए कहा कि आपातकाल का विरोध 1980 में ही खत्म हो गया था, जब इंदिरा गांधी दोबारा भारी बहुमत से जीताकर प्रधानमंत्री बनीं। जिन लोगों का अंग्रेजों से माफी मांगने का इतिहास रहा है, उन्हें कांग्रेस के निर्णयों पर सवाल उठाने का हक नहीं है। उन्होंने कहा कि जब से मोदी सरकार आई है, तब से देश में अघोषित इमरजेंसी लग गई है।

खबरें और भी हैं...