पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राज्य में पहली बार.:अनगड़ा सीएचसी में लेप्रोस्कोपी विधि से किया ऑपरेशन

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्य में पहली बार किसी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) में सीमित संसाधनों के लिए डॉक्टरों ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। सीएचसी अनगड़ा में किसी बड़े और अच्छे प्राइवेट हॉस्पिटल या बड़े सरकारी हॉस्पिटल की तरह लेप्रोस्कोपी विधि से मरीज का सफल ऑपरेशन किया गया।

अनगड़ा के पैका गांव की रहने वाली 34 वर्षीय ममता देवी का डॉक्टरों ने लेप्रोस्कोपी विधि से ऑपरेशन किया। मरीज आयुष्मान योजना की लाभुक है। यह सफल ऑपरेशन डॉ. सुरेश मिंज ने अपनी टीम के साथ किया।

अनगड़ा के चिकित्सा प्रभारी डॉ. अमरेंद्र प्रसाद ने बताया कि सीएचसी में वे तमाम उपकरण और सुविधाएं थींं, जिससे लेप्रोस्कोपी विधि से ऑपरेशन किया जा सके। हमने इसका लाभ उठाया और मरीज को रिम्स या सदर अस्पताल भेजने की जगह यहीं उसका ऑपरेशन किया।

रिम्स में पहली बार हुई ट्रिपल वाॅल्व की सर्जरी

रिम्स के सीटीवीएस विभाग में गुरुवार को पहली बार ट्रिपल वाॅल्व सर्जरी (टीवीएस) सफलतापूर्वक हुई। पहली बार यह ऑपरेशन धनबाद की रहने वाली पार्वती मरांडी का किया गया। ऑपरेशन रिम्स के डॉक्टरों ने मात्र चार घंटे में किया।

डॉक्टरों ने बताया कि महिला की ओपन हार्ट सर्जरी के दौरान दो वाॅल्व, मित्राल और महाधमनी वाॅल्व को यांत्रिक वाले से बदला गया। साथ ही ट्राइकसपिड वाॅल्व की मरम्मत भी की गई। सीटीवीएस विभाग के प्रमुख डॉ. विनीत महाजन ने कहा कि रूमेटिक हार्ट डिजीज के कारण मरीज के तीनों प्रमुख वाॅल्व खराब हो गए थे।

इससे उसका दिल बड़ा हो गया था और कार्यक्षमता कम हो गई थी। यह एक बड़ा ऑपरेशन था, जो राज्य में पहली बार किया गया है। डॉ. राकेश चौधरी ने बताया कि सर्जरी के दो घंटे के बाद ही मरीज को वेंटिलेटर से बाहर निकाला गया।

ऑपरेशन डॉ. विनीत महाजन, डॉ. राकेश चौधरी, डॉ. अंशुल कुमार, डॉ. शेओ प्रिये, डॉ. नितेश सिन्हा, डॉ. मुकेश और अमित आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...