पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

झारखंड कांग्रेस प्रभारी पर MCC उल्लंघन का मामला:कांग्रेस नेताओं ने अपनी ही सरकार पर उठाए सवाल, कहा- बिना जांच दर्ज किया मामला

रांचीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिकारियों से मुलाकात करते कांग्रेस नेता। - Money Bhaskar
अधिकारियों से मुलाकात करते कांग्रेस नेता।

प्रदेश में सत्तारूढ़ सरकार में शामिल कांग्रेस ने राज्य सरकार के अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाया है। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रभारी अविनाश पांडे ने गुरुवार को कहा कि राजनीति से प्रेरित होकर उनके खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज कराया गया है। राजधानी के कोतवाली थाना में अपने खिलाफ दर्ज आचार संहिता मामले की जानकारी लेने पहुंचे पांडे ने कहा कि राज्य चुनाव आयोग के अधिकारी के पास जो शिकायत की गई, उसकी वस्तुस्थिति की जांच पड़ताल किए बगैर उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

अनुचित धाराएं लगाई गई उनके खिलाफ
उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 181 और 130 लगाई गई है। उन्होंने कहा कि मई के पहले हफ्ते में वो संगठन सशक्तिकरण के लिए और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में पंचायत के चुनाव हो रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि ना वो किसी उम्मीदवार का प्रचार कर रहे हैं, ना किसी चुनाव चिन्ह का प्रचार कर रहे हैं और ना आमसभा कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ना किसी पक्ष के समर्थन में वोट डालने की अपील की है। ऐसे में उनके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मामला कहां से बनता है। उन्होंने कहा कि पार्टी मुख्यालय के अंदर दिया उनका बयान किसी जनप्रतिनिधि के चुनाव प्रचार के लिए नहीं था।

बीजेपी ने साधा निशाना
उन्होंने कहा कि पांडे ने यह भी कहा कि उनके खिलाफ दर्ज शिकायत को सरकार के साथ ना जोड़ें। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेता आज पूरी तरह से मानसिक रूप से हताश हो गई है। जिस तरह उन्होंने पंचायत चुनाव उल्लंघन मामले में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, वह उनके हताश होने को प्रमाणित करता है.

पांडे के साथ कोतवाली थाना में प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर, विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार, विधायक अनूप सिंह दीपिका पांडे सिंह सहित कई कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे।