पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्कूल के गुलाबी रंग पर चढ़ेगा हरा रंग:बॉर्डर का रंग होगा मेहंदी, शौचालय की दीवारें होंगी सफेद, खिड़कियों का रंग गहरा हरा

रामगढ़एक महीने पहलेलेखक: अंकित कुमार
  • कॉपी लिंक
स्कूलों में लगने वाली नए रंग का प्रारूप। - Money Bhaskar
स्कूलों में लगने वाली नए रंग का प्रारूप।

जिले के सभी सरकारी स्कूलों पर अब नया रंग चढ़ेगा। सभी तरह के स्कूली भवन अब सफेद और हरे रंग के होंगे। इसे लेकर झारखंड शिक्षा परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने सभी जिला को निर्देश जारी किया है। इसमें उन्होंने कहा कि अभी स्कूलों के भवन गुलाबी रंग के हैं और शौचालयों के लिए नीले रंग का इस्तेमाल किया गया है।

अब नए सिरे से रंग-रोगन किया जाएगा। इसके तहत नए और पुराने सभी तरह के स्कूल भवनों का रंग सफेद होगा और बॉर्डर के लिए मेहंदी यानी हरे रंग का उपयोग किया जाएगा।

इसके अलावा स्कूल भवनों के दरवाजों ओर खिड़कियों का रंग गहरा हरा होगा। साथ ही शौचालय की दीवार भी सफेद और उसमें मेहंदी रंग का बॉडर होगा। इनके दरवाजे और खिड़कियों के रंग गहरे हरे रंग के होंगे। परिषद की ओर से तीन ब्रांडों का विकल्प भी सुझाया गया है।

कई बार बदला स्कूल भवनों का रंग, 2002 से पहले था पीला

वर्ष 2002-03 में विद्यालय भवनों का रंग पीला से बदल कर गुलाबी किया गया था। परियोजना निदेशक के स्तर से रंग में बदलाव किया गया था। वर्ष 2014-15 में स्कूल भवनों के रंग में फिर बदलाव हुआ।

स्कूल भवनों का रंग ब्राइट पिंक, बॉर्डर टेराकोटा व खिड़की एवं दरवाजा का रंग गोल्डन ब्राउन किया गया। वर्ष 2018-19 में भवनों के रंग को यथावत रखा गया, पर शौचालय के रंग में बदलाव किया गया था।

कलर के लिए हर साल मिलता है अनुदान
राज्य के सरकारी स्कूलों को प्रतिवर्ष अनुदान राशि दी जाती है। यह राशि आवश्यकतानुसार भवन की मरम्मत, रंग-रोगन व सफाई पर खर्च की जाती है। विद्यार्थियों की संख्या के अनुरूप यह राशि दी जाती है।

ऐसे विद्यालय जहां नामांकित बच्चों की संख्या 30 है, उन विद्यालयों को 10 हजार, 31 से 100 नामांकन वाले स्कूल को 25 हजार, 101 से 250 तक नामांकन वाले स्कूल को 50 हजार, 251 से एक हजार नामांकन वाले स्कूल को 75 हजार व एक हजार से अधिक नामांकन वाले स्कूलों को एक लाख रुपये अनुदान मिलता है।

झारखंड शिक्षा परियोजना निदेशक किरण पासी ने सरकारी स्कूलों का रंग बदलने का निर्देश दिया है। इसे सभी स्कूलों को प्रेषित कर दिया गया है। शीघ्र ही इस दिशा में आगे की कार्रवाई की जाएगी। जल्द सभी स्कूलें नए रंग में दिखेंगी।
आलोक कुमार, सहायक अभियंता, शिक्षा परियोजना।

खबरें और भी हैं...