पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

तंत्र साधना के लिए महिला की बलि:गढ़वा में बहन और बहनोई ने मिलकर पहले जीभ काटी, फिर प्राइवेट पार्ट से खींच ली अंतड़ी

गढ़वा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूछताछ करने के लिए पहुंची पुलिस की टीम। - Money Bhaskar
पूछताछ करने के लिए पहुंची पुलिस की टीम।

झारखंड के गढ़वा में तंत्र साधना के चक्कर में एक महिला की बलि दे दी गई है। पहले महिला की जीभ काट दी गई। इसके बाद प्राइवेट पार्ट से अंतड़ी खींच ली गई। घटना गत 21 जून की बताई जा रही है। रविवार को मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। पता चला कि महिला के शव को पहले ही जला दिया गया है। पुलिस महिला के पति सहित कई और लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। घटना श्री बंशीधर नगर थाना के नगर पंचायत के वार्ड 6 की है।

पीड़ित महिला का नाम गुड़िया देवी (26) था। तंत्र विद्या के लिए महिला की बलि देने का आरोप बहनोई दिनेश उरांव और बहन ललिता देवी पर लगा है। महिला के घर से थोड़ी दूरी पर स्थित एक रिश्तेदार रामशरण उरांव उर्फ गोटा के घर पर मंगलवार की सुबह करीब तीन बजे वारदात को अंजाम दिया गया। इस दौरान महिला के परिवार के लोग भी मौके पर मौजूद थे।

घटना के बारे में जानकारी देते महिला के परिवार के सदस्य
घटना के बारे में जानकारी देते महिला के परिवार के सदस्य

मायके ले जाकर शव को जला दिया

महिला के पति मुन्ना उरांव ने बताया कि उसके पड़ोसी रिश्तेदार के घर पर करीब एक सप्ताह से दिनेश उरांव और उसकी पत्नी ललिता देवी तंत्र साधना कर रहे थे। इसमें शामिल होने के लिए दोनों ने गुड़िया देवी को सपरिवार बुलाया था। मंगलवार की सुबह सास, पति, देवर और देवरानी सबको लेकर महिला अपनी बहन और बहनोई की पूजा में शामिल होने गई।

इसी दौरान बहन और बहनोई ने मिलकर गुड़िया देवी की जीभ काट दी। जब इतने से भी मन नहीं भरा तो उसके प्राइवेट पार्ट से अंतड़ी को बाहर निकाल दिया। जिससे महिला की दर्दनाक मौत हो गई। आनन-फानन में बहन-बहनोई और अन्य लोगों ने शव को महिला के मायके रंका थाना के खोरी गांव ले गए और वहां शव को जला दिया।

अंधविश्वास की शिकार हुई महिला।
अंधविश्वास की शिकार हुई महिला।

घर का मालिक फरार

घटना के बारे मे प्रत्यक्षदर्शी देवर शंभु उराव और उसकी पत्नी उषा देवी ने बताया कि रामशरण उरांव उर्फ गोटा के घर में यह पूजा चल रही थी। मंगलवार को सब लोग साथ गए थे। जब महिला की बलि दी जा रही थी तो उन्होंने इसका विरोध किया। इसके बाद उषा देवी के साथ भी मारपीट की गई। उनकी भी बलि देने की कोशिश हुई।

रविवार को मामले में जानकारी मिलते पर थाना प्रभारी योगेंद्र कुमार दल-बल के साथ उराव टोला पहुंचे। मामले की जानकारी ली। मृतका के पति मुन्ना उरांव सहित चार और लोगों को हिरासत में ले लिया गया है। इसमें दो महिलाएं हैं। वहीं घर के मालिक रामशरण उरांव फरार है।

इसी घर में दी गई महिला की बलि।
इसी घर में दी गई महिला की बलि।

महिला की बलि के बाद बैठी पंचायत, घटना को दबाने का निर्णय

महिला की बलि देने के बाद उरांव टोले में ग्रामीणों ने आपस में बैठक की। पंचायत में मामले को दबाने का निर्णय लिया गया। बताया जाता है कि बैठक में उपस्थित वार्ड पार्षद के पति योगेश उरांव ने कथित तौर पर मामले को दबा देने की हिदायत दी। हालांकि, मामला प्रकाश में आने के बाद योगेश इससे इनकार कर रहे हैं। योगेश ने कहा कि घटना के बाद परिवार में विवाद होने लगा। इसके बाद पंचायत की बैठक हुई।

मृतका गुड़िया देवी के पति मुन्ना उरांव ने श्राद्ध के बाद पुलिस को सब बताने का निर्णय लिया था। इस मामले में SDPO प्रमोद केसरी ने कहा कि मामले की जानकारी मिली है। छानबीन जारी है। कई लोगों को पूछताछ के लिए उठाया गया है। टीम बनाकर अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की जा रही है।

खबरें और भी हैं...