पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का समापन धूमधाम से हुआ:कुलपति ने कहा- नई शिक्षा नीति में मातृभाषा पर है विशेष जोर

लोहरदगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्मारिका का विमोचन करते अतिथिगण। - Money Bhaskar
स्मारिका का विमोचन करते अतिथिगण।

अविराम कॉलेज में नई शिक्षा नीति पर आयोजित दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का समापन धूमधाम से हुआ। समापन सेमिनार मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए रांची यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर अजीत कुमार सिन्हा ने कहा कि अविराम कॉलेज फॉरेस्ट्री, होटिकल्कचर की पढ़ाई प्रारंभ कराए एफीलेशन हम देंगे। उन्होंने कहा नई शिक्षा नीति मातृभाषा पर विशेष जोर दिया गया है। इससे प्राइमरी शिक्षा में बच्चे सहज भाव से अपनी भाषा में विषय को गहराई से समझेंगे। वहीं उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री के एनईपी क्रियान्वन समिति की प्रो निशी पांडेय ने कहा माध्यमिक शिक्षा में भी कई बदलाव हुए हैं तो उच्च शिक्षा में छात्रों को मनपसंद विषय पढ़ने की भी आजादी दी गई है।

पहले डिग्री स्तर पर छात्र पढ़ाई छोड़ देते थे, तो उनके सामने अपनी डिग्री पूरी करने का कोई विकल्प नहीं था। इग्नू की प्रति कुलपति प्रो सुमित्रा कुकरेजा ने कहा नई शिक्षा नीति में अगर छात्र एक साल भी पढ़ाई करके छोड़ देते हैं। आगे आने वाले समय में वह अपनी पढ़ाई पूरी करनी चाहते हैं। तो नई शिक्षा नीति में इसके लिए पूरी व्यवस्था की गई है। मिसेज इंडिया यूनिवर्स यूके ब्रिटेन व प्रेरक वक्ता परीन सोमानी ने नई शिक्षा नीति में युवाओं के लिए कौशल विकास के कोर्स शामिल किए जाने को उपयोगी बताया।

एशियन लैंग्वेज व संस्कृति क्वांगटोंग चीन विश्वविद्यालय के विवेक मणि त्रिपाठी ने कहा सभी का आभार जताते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति में हर पहलू को ध्यान में रखा गया है। कॉलेज सचिव इंद्रजीत कुमार भारती ने कहा सेमिनार के आयोजन का मुख्य उद्देश्य है कॉलेज के प्रशिक्षकों को हर तरह से निपुण बनाना है।

अविराम का प्रयास है लोहरदगा जिले को शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में विकसित करना है। सेमिनार को रांची यूनिवर्सिटी के पीके वर्मा, संजय कुमार मिश्रा सहित अन्य विद्वानों ने संबोधित किया। मौके पर सेमिनार की आयोजनकर्ता व कॉलेज विभागाध्यक्ष डॉ प्रतिमा त्रिपाठी, लक्ष्मण उरांव, वीरेंद्र, नीरज, राहुल सहित अन्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...