पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्म-समाज:राक्षस के सिर के ऊपर मां दुर्गा की प्रतिमा होगी स्थापित, बीआईडी में 1992 से लगातार पूजा का होता आ रहा है आयोजन

लोहरदगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंडाल का प्रारूप। - Money Bhaskar
पंडाल का प्रारूप।

जिले में कोरोना के कारण दो वर्षों के बाद दुर्गा पूजा धूम धाम से मानने को लेकर तैयारी पूरे जोर शोर से शुरू हो गई है। सभी पूजा समिति इस वर्ष पूजा में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते है। भव्य पूजा पंडाल, आकर्षक प्रतिमा व विद्युत सज्जा की सहित अन्य कार्यक्रमों को लेकर तैयारी जोरों पर है। समिति से संरक्षक, पदाधिकारी, कार्यसमिति सदस्य व सदस्य सभी दिन रात पूजा के सफल आयोजन को लेकर तैयारी में लग चुके है।

इस क्रम में भास्कर प्रतिनिधि द्वारा एक-एक कर विभिन्न समितियों द्वारा की जा रही तैयारियों की जानकारी ली जा रही है। वहीं शहरी क्षेत्र के बीआईडी दुर्गा पूजा समिति द्वारा इस वर्ष भी भव्य रूप से दुर्गा पूजा मनाने को लेकर तैयारी शुरू हो चुकी है। समिति का अध्यक्ष दीपक जायसवाल के नेतृत्व में समिति द्वारा भव्य पंडाल के साथ आकर्षक विद्युत सज्जा किए जाने का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है।

रौशन ने कहा- साढ़े पांच लाख रुपए से बन रहा है पूजा पंडाल

वहीं पंडाल प्रभारी रौशन अग्रवाल ने बताया कि समिति 1992 से लगातार पूजा का आयोजन करती आ रही है। इस दौरान श्रद्धालुओं के लिए भव्य पंडाल और आकर्षक विद्युत सज्जा का प्रदर्शन किया गया। वहीं इस वर्ष भी भव्य पंडाल का निर्माण और आकर्षण विद्युत सजा की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस वर्ष काल्पनिक रूप से तैयार किया गया चित्र के अनुरूप पंडाल का निर्माण किया जा रहा है। जिसमें दो पहाड़ों के बीच राक्षस के चेहरे के ऊपर 10 फीट की बनी मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित होगी। पंडाल की चौड़ाई 58 फीट व ऊंचाई 45 फीट होगी। जो काफी आकर्षक होगा। वहीं पंडाल के अंदर 7 फीट की मां दुर्गे की प्रतिमा स्थापित होगी।

पंडाल के बाहर आकर्षण के रूप में झरना बनाया जाएगा। साथ ही पूरे क्षेत्र में विद्युत सज्जा कर क्षेत्र को रोशन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस वर्ष पहली बार पाठ का आयोजन किया जा रहा है। वहीं प्रतिमा विसर्जन एकादशी के दिन होगी। साथ ही भव्य भंडारे का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन सब में लगभग साढ़े पांच लाख रुपए का बजट तय की गई है। कहा कि पंडाल परिसर और बाहर में सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरा व अग्निशमन यंत्र भी लगाए जाएंगे। साथ ही समिति के सारे पदाधिकारी व सदस्य सुरक्षा और विधि व्यवस्था को सही तरीके से बनाए रखने में तत्पर रहेंगे।

खबरें और भी हैं...