पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजस्व कर्मचारियों की हड़ताल पांचवें दिन भी रही जारी:जाति, आवासीय, परिशोधन, म्यूटेशन कार्य ठप, ग्रामीणों को हो रही परेशानी

लोहरदगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हड़ताल पर बैठे राजस्व कर्मी। - Money Bhaskar
हड़ताल पर बैठे राजस्व कर्मी।

जिलेभर के राजस्व कर्मचारी बुधवार को भी पांचवे दिन अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे रहे। हड़ताल से जाति, आय, आवासीय, परिशोधन, म्यूटेशन, ऑनलाइन सहित अन्य कार्य बाधित हो गया। संबंधित कार्यों के लिए प्रतिदिन आने वाले 200 से अधिक आवेदनों पर कार्य रुक गया है। जिससे कार्य के लिए पहुंचने वाले संबंधित लोगों को वापस लौटना पड़ रहा है। साथ ही पूर्व में आय, जाति, आवासीय के लिए आवेदन करने वाले लोगों को भी अब हड़ताल समाप्त होने की प्रतीक्षा करनी पड़ रही है।

झारखंड राज्य राजस्व उपनिरीक्षक संघ द्वारा जारी दिशा निर्देश के बाद राउनिसं लोहरदगा के कर्मी भी अपने 11 सूत्री मांगों को लेकर हड़ताल पर बैठे हैं। सदर प्रखंड मुख्यालय स्थित बहुदेश्यीय भवन में सभी कर्मी हड़ताल पर बैठे है। संघ के अध्यक्ष रामा महतो व कार्यकारी अध्यक्ष विकास सोनी ने कहा कि सभी मांगों का समर्थन करते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए है। राजस्व कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से प्रखंड कार्यालय सहित अन्य जगहों पर अधिकारियों के अलावा अन्य कर्मियों को आगे कार्य बढ़ाने में दिक्कतें आने लगी है। अब यह हड़ताल कब तक चलेगी और लोगों को कब तक वापस कार्य कराए बिना ही लौटना पड़ेगा इसकी कोई तिथि नहीं है।

कर्मियों द्वारा बताया गया 11 सूत्री मांगों में मुख्य रूप से राजस्व उपनिरीक्षकों का ग्रेड पे 2400 देने के साथ तीन वर्ष बाद ग्रेड पे 2800 करने, प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर प्रोन्नति देने, प्रतियोगिता परीक्षा में राजस्व उपनिरीक्षकों का कार्यानुभव 10 वर्ष के स्थान पर पांच वर्ष करने, राजस्व प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने, हल्का इकाई का पुनर्गठन करने, सहित अन्य मांग शामिल है। हड़ताल में मुख्य रूप से अर्जुन प्रजापति, मनीष चंद उरांव, बिनेश्वर भगत, बबली कुमारी, नेहा कुमारी भगत, दीपक कुजूर, परवीन कुमार, अनुप उरांव, राजेंद्र कुजूर, अब्दुल हसन, अलि अहमद सलीम, रीना आिद थे।

खबरें और भी हैं...