पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरईओ काे आवेदन देने के बाद भी नहीं हाे सकी:बुधूडीह से सोनबाद पंचायत जाने वाली सड़क 2 किमी तक हुई जर्जर, राहगीराें काे चलने में हाेती है परेशानी

जामताड़ा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पक्की सड़क की मांग करते ग्रामीण। - Money Bhaskar
पक्की सड़क की मांग करते ग्रामीण।

बुधूडीह से सोनबाद पंचायत जाने वाली सड़क 2 किलोमीटर जर्जर तक अवस्था में हजारों लोग रोजाना सड़क का उपयोग करते हैं। सड़क 30 वर्षों पूर्व मरम्मती कार्य किया गया था। विभाग सड़क की मरम्मती को लेकर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई। ग्रामीणों में सड़क मरम्मती कार्य ना होने की वजह से विभाग के प्रति काफी रोष है। ग्रामीणों ने बताया आए दिन सड़क पर नुकीले पत्थर एवं सैकड़ों गड्ढों से कई लोग हादसे का शिकार हो चुके हैं। सड़क पर इमरजेंसी सेवाओं के समय मरीजों को अस्पताल ले जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

हालात यह है कि नुकीले पत्थर एवं गड्ढों के अलावे कच्ची सड़कों का बरसात के समय में कीचड़ से रास्ते गायब हो जाते हैं लोग आने जाने के लिए कतराते है। एडवर्ड स्कूल के 500 से अधिक बच्चे सड़क का इस्तेमाल करते है। वहीं धनबाद जिले से सटे होने के सैकड़ों मोटरसाइकिल एवं चार चक्के वाहन का आना जाना लगा रहता है। ग्रामीणों ने बताया कि यह आर्यों का सड़क है। कई बार ऑफिस में सड़क मरम्मती के लिए आवेदन दिया गया। लेकिन विभाग की ओर से आश्वासन मिला की जनप्रतिनिधि के द्वारा ही इस सड़क का कार्य किया जाएगा।

वहीं जनप्रतिनिधि से भी आवेदन विभाग को दिया गया लेकिन विभाग की ओर से कोई जवाब नहीं आया है। वहीं चेंगायडीह, धोबना, सोनबाद, गायछांद सहित दर्जनों गांव इस सड़क का इस्तेमाल करते हैं। एनएसी से सटे होने के बावजूद भी गांव की सड़कें पुराने जमाने के वक्त का ही लोग इस्तेमाल हो रहा हैं।सुमन दास सड़क 30 वर्ष पहले कार्य किया गया था। जर्जर अवस्था में सैकड़ों लोग नजदीकियों होने से इस्तेमाल करते हैं।

मरीजों को धनबाद रेफर करने पर एंबुलेंस शॉर्टकट मैं आते जाते हैं। आवेदन के माध्यम से विभाग एवं पदाधिकारियों को अवगत कराया गया है। विभाग जल्द कार्रवाई करते हुए सड़क की मरम्मती कार्य शुरू करें ताकि बच्चे ग्रामीण सहित अन्य लोगों को आने जाने में मुश्किलों का सामना ना करना पड़े।मुखिया निर्मल सोरेन यह आरईओ का सड़क है।

आरईओ ऑफिस में आवेदन दिया गया। पदाधिकारियों ने बताया कि जनप्रतिनिधि के माध्यम से सड़क का निर्माण कार्य किया जाएगा। मैंने जनप्रतिनिधि को भी सड़क मरम्मत को लेकर आवेदन दिया है। लेकिन विभाग की ओर से किसी प्रकार की जवाब या कार्रवाई नहीं की गई। मैं कहना चाहता हूं कि विधायक अभी कारणवश कोलकाता में उपस्थित है। लेकिन ग्रामीणों की सड़क की समस्या जस की तस बनी हुई है। 30 वर्ष पहले रोड का कार्य हुआ था। अब तक जर्जर की अवस्था में है। एनएसी से सटे होने के बावजूद भी कार्यवाही नहीं किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...