पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चिरेका महाप्रबंधक से संगठन ने लगाई गुहार:आवास मेंटनेंस की मांग को ले डिप्टी सीई को घेरा

चित्तरंजन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक रेलकर्मी को बेहद खतरनाक हालत में अपने आवास के पास ताड़ का पेड़ काटने के लिए सीधे चितरंजन रेलवे इंजन फैक्ट्री के महाप्रबंधक के पास जाना पड़ा। लेकिन चित्तरंजन रेल प्रशासन के उच्चाधिकारी द्वारा शिकायत के पहुंचने का खामियाजा कर्मचारी को भुगतना पड़ा। संबंधित आईओडब्ल्यू विभाग की ओर से रेलकर्मी के आवास पर बिना पेड़ काटे कर्मचारी के आवास से सटे गैरेज आदि की माप-जोख करने लगे। इससे नाराज मजदूर संगठन सीआरएमसी ने मजदूर नेता इंद्रजीत सिंह के नेतृत्व में मंगलवार को डिप्टी सीई (सिविल इंजीनियरिंग विभाग) को घेराव कर जोरदार प्रदर्शन किया।

इंद्रजीत ने बताया कि शहर के 52 रोड क्वार्टर के निवासी रेलकर्मी नीरज कुमार सिंह ने रेलवे प्रशासन के विभिन्न कार्यालयों को ताड़ के पेड़ को काटने के लिए पत्र लिखा था, कोई जवाब नहीं मिलने पर वे चिरेका महाप्रबंधक से हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई। इससे नाराज आईओडब्लू विभाग के लोग नीरज के घर पहुंचे और कथित तौर पर उन्हें परेशान किया।

इंद्रजीत ने कहा कि सिविल इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी ने मामले को जल्द से जल्द सुलझाने का आश्वासन दिया है। यूनियन ने रेलवे क्वार्टरों के उचित रखरखाव, टूटे दरवाजों और खिड़कियों को बदलने, क्वार्टर के पीछे नालियों की मरम्मत और अस्पताल कॉलोनी की पानी की टंकी की सफाई की भी मांग की। नेताओं ने कहा कि एक ओर अधिकारियों के बंगले हर महीने दुरुस्त किये जा रहे है टाइल्स बदले जा रहे है तो दूसरी ओर कर्मियों के आवास के छत टपक रहे है।

सालों से शिकायत के बाद भी मरम्मत नही किया जा रहा है। कोर्ट केस की दुहाई देकर डैम की सफाई नही की जा रही है। रेलकर्मी के आवास की छत साफ नही रखने पर 2 हजार रुपये का जुर्माना लगाने का आदेश जारी किया गया है तो अधिकारियों को खुद के आवास की छत साफ करने के लिए क्यों नही चढ़ाया जा रहा है। इस दौरान एसके शाही, नेपाल चक्रवर्ती, देबाशीष मजूमदार, मनोज मंडल, शंकर रॉय चौधरी, दुलाल चर, पिंटू पाण्डे, राजेश झा समेत अन्य नेता मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...