पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आहूत पेंशन जयघोष महासम्मेलन:पेंशन जयघोष महासम्मेलन में शामिल होने हेतु गढ़वा जिले से हजारों एनपीएस कर्मी रांची कूच करेंगे

गढ़वा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रांची में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने को लेकर तैयार एनपीएस कर्मी। - Money Bhaskar
रांची में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने को लेकर तैयार एनपीएस कर्मी।

आज शनिवार को एनएमओपीएस की गढ़वा जिला इकाई ने जिला संयोजक सुशील कुमार ने कई एनपीएस साथियों के साथ 26 जून दिन रविवार को आहूत पेंशन जयघोष महासम्मेलन के उद्देश्य एवं तैयारियों से संबंधित टाउन हॉल के मैदान में उपस्थित होकर अंतिम विचार विमर्श किया। इस अवसर पर जिला संयोजक सुशील कुमार के द्वारा बताया गया कि नई पेंशन योजना जो पूरी तरह से पूंजीपतियों के हितों को ध्यान में लेकर लाई गई थी।

इसके अबतक के सारे परिणाम कर्मचारी की सामजिक सुरक्षा की दृष्टि से भयावह रहे हैं। इसी आर्थिक बीमारी के पूर्ण विसर्जन व पुरानी पेंशन की पुनर्स्थापना हेतु पूरे राज्य से हज़ारों की संख्या में कर्मचारी व पदाधिकारी रांची के मोरहाबादी स्थित बिरसा मुंडा फुटबॉल स्टेडियम में पेंशन जयघोष महासम्मेलन करने जा रहे हैं। इस महाआयोजन में न सिर्फ झारखण्ड राज्य के वरन कई अन्य प्रदेशों से भी लोग शिरकत करने आ रहे हैं।

इस विषय पर झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से लगभग तीन वर्ष पहले जब वे सत्ता में नहीं थे। तब से बात चल रही थी। उन्होंने इस विषय की मार्मिकता को समझा था और सरकार बनने के बाद भी इसपर अपना सकारात्मक रुख बनाये रखा। उन्होंने यह वादा किया था की वे 2004 के बाद से झारखण्ड में सरकारी सेवा में नियुक्त कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाल कर देंगे। एनएमओपीएस झारखण्ड के प्रतिनिधिमंडल से मुख्यमंत्री कार्यालय की कई दौर की वार्ताएं हुईं। वहीं इसके सभी पहलुओं पर गहन चर्चा हुई।

इस बाबत जिला संयोजक सुशील कुमार ने बताया कि उक्त पेंशन जयघोष महासम्मेलन में शामिल होने हेतु विगत पन्द्रह दिनों से जिले व प्रखण्ड के समस्त विभागों में कार्यरत तमाम एनपीएस कर्मियों से डोर टू डोर जनसंपर्क अभियान चलाया गया। अंततः इस जिले से लगभग एक हजार सरकारी एनपीएस कर्मियों का कुनबा दो बस व लगभग अस्सी छोटी गाड़ियों से पेंशन जयघोष महासम्मेलन में शामिल होने हेतु कूच कर रहे हैं। कुछ एनपीएस साथी आज से ही ट्रेन एवं निजी वाहनों से राँची पहुँच रहे हैं।

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन हैं।जिनसे राज्य के तमाम एनपीएस कर्मियों को काफी उम्मीद एवं विश्वास है कि इसी महासम्मेलन में पुरानी पेंशन बहाल करने की अधिसूचना की घोषणा सूबे के मुख्यमंत्री के द्वारा कर दी जायेगी। जिला संयोजक सुशील कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने विधानसभा के ग्रीष्मकालीन सत्र के समापन में झारखण्ड राज्य में पुरानी पेंशन बहाली के अपने संकल्प को उच्च स्वर में दोहराया और उनके द्वारा कहा गया की बहुत जल्द वे झारखण्ड में पुरानी पेंशन बहाल करने जा रहे हैं। 17 जून को जब इस महासम्मेलन के आयोजकों द्वारा उन्हें मुख्य अतिथि के रुप में आमंत्रित किया गया तो उन्होंने एक मज़बूत कदम और आगे बढ़ते हुए विभिन्न सोशल मीडिया प्लैटफार्म के माध्यम से यह घोषणा की, की अब समय आ गया है पुरानी पेंशन बहाली का।जिससे पूरे राज्य में एक खुशी की लहर है।

वहीं कर्मचारी कृतज्ञता से भरे उत्साह से लबरेज़ हैं। हालांकि कुछ मीडिया हाउसेस द्वारा यह भ्रम भी फैलाने का प्रयास किया जा रहा है की बिना केन्द्र सरकार की सहमति के इसे राज्य में नहीं लागू किया जा सकता है। वहीं पीएफआरडीए अपने पास जमा एनपीएस फंड की राशि नहीं लौटा सकता है। इस अफवाह पर ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है। इस संबंध में जिला कोषाध्यक्ष राजीव कुमार मिश्रा द्वारा बताया गया कि कर्मचारियों की वेतन एवं पेंशन राज्य का विषय है। जिसका वहन सामान्यतया राज्य के बजट से किया जाता है। इसमें कहीं भी केन्द्रांश का कोई कन्सेप्ट ही नहीं है तो इसमें केन्द्र क्या दखलंदाजी कर सकता है।

स्वास्थ्य विभाग के जिलाध्यक्ष संतोष कुमार मेहता ने कहा कि अभी हाल ही में दो राज्यों राजस्थान और छत्तीसगढ़ पहले ही पुरानी पेंशन बहाल कर चुके हैं। और तो और केन्द्र सरकार स्वयं इस बात को एक आरटीआई के उत्तर में स्पष्ट कर चुकी है। जहाँ तक बात रही पीएफआरडीए की तो वह फंड का मालिक नहीं है। वह सिर्फ एक फंड मैनेजर है। एनपीएस में जमा पैसा राज्य सरकार और कर्मियों का है। यदि आधिकारिक रुप फंड को लौटाने में आनाकानी करता है। तब आवश्यक विधिक उपचार किये जायेंगे। अभी कुछ सेवाओं में जिनमें बहाली 2004 के बाद हुई। किन्तु नियुक्ति प्रक्रिया उससे पहले से चल रही थी।

उनमें से कुछ को न्यायालय के आदेश से पुरानी पेंशन में लाया जा चुका है। उसमें सीपीएफ को जीपीएफ में बदला भी गया है। उन्होंने कहा कि हमें अपने मुख्यमंत्री के कथन पर पूर्ण भरोसा है की जो उन्होंने अपने चुनावी मैनिफेस्टो में कहा था। वे अक्षरशः उसे कर के दिखायेंगे। पुरानी पेंशन बहाल होगी और नवम्बर 2004 के बाद बहाल हर सरकारी कर्मचारी के लिये बहाल होगी।

मौके पर जिला कोषाध्यक्ष राजीव कुमार मिश्रा,मीडिया प्रभारी डॉ कृष्ण कुमार यादव,जिला प्रवक्ता सारा हादी,स्वास्थ्य विभाग से संतोष कुमार मेहता, सुरेंद्र प्रसाद, लघु सिंचाई विभाग से संतोष कुमार गुप्ता, पुलिस मेंस से बादल पासवान, प्रखण्ड सगमा के प्रखण्ड संयोजक सुनय राम, चिनिया प्रखण्ड संयोजक दिलीप कुमार, पंचायत सचिव संघ से अशोक कुमार, प्राथमिक शिक्षक संघ से बेलाल अहमद, दिलीप कुमार माध्यमिक शिक्षक संघ से रेखा मिंज, सुमन कुमारी, राजाराम पासवान, सत्येंद्र राम, संजय करमाली भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...