पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फुटबॉल प्रतियोगिता:को-ऑपरेटिव कॉलेज जमशेदपुर बना केयू अंतर फुटबॉल चैंपियन

चाईबासा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोल्हान विश्वविद्यालय के अंतर कॉलेज फुटबॉल प्रतियोगिता का अंतिम मैच सोमवार को खेला गया। इसमें को-ऑपरेटिव कॉलेज जमशेदपुर चैंपियन बना। टाटा कॉलेज चाईबासा ने उपविजेता का खिताब जीता। को-ऑपरेटिव कॉलेज ने दो गोल से जीत दर्ज कर ट्रॉफी अपने नाम की। टाटा कॉलेज चाईबासा की टीम मात्र एक गोल ही कर पाई।

पहले हाफ में टाटा कॉलेज चाईबासा व को-ऑपरेटिव कॉलेज की टीम ने एक भी गोल नहीं किया। लेकिन दूसरे हाफ में सर्वप्रथम को-ऑपरेटिव कॉलेज की टीम के जर्सी नंबर 10 के खिलाड़ी दुर्गा चरण टुडू ने एक गोल कर खाता खोला। वहीं दूसरे हाफ में टाटा कॉलेज चाइबासा के कप्तान विकास बालमुचू ने पेनल्टी शूट आउट में एक गोल मार कर मैच बराबरी पर लाकर खड़ा कर दिया। लेकिन कुछ ही देर बाद को-ऑपरेटिव कॉलेज के जर्सी नंबर 9 पहने मोहन मर्डी ने एक गोल दाग दिया।

इसके बाद टाटा कॉलेज के खिलाड़ी एक भी गोल नहीं कर पाए। समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रुप में कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ गंगाधर पंडा शामिल हुए। उन्होंने खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि जिस रफ्तार से खेल हुआ उसी रफ्तार से निरंतर खेल होते रहना चाहिए। विद्यार्थियों को हमेशा पांच मंत्र याद रखना चाहिए जो उनके हित में है। अभ्यास ही खिलाड़ियों की सबसे बड़ी पूंजी होती है. उन्होंने उपविजेता टीम को भी बधाई देते हुए कहा कि खेल में हार-जीत एक प्रक्रिया है। लेकिन बेहतर खिलाड़ी की पहचान उसके खेल से होती है। खेल में खिलाड़ियों की भागीदारी ही सबसे महत्वपूर्ण है।

कुलपति पंडा ने की खिलाड़ियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना

कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ गंगाधर पंडा खिलाड़ियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की। मौके पर कुलसचिव डॉक्टर जयंत शेखर, विश्वविद्यालय के प्रवक्ता डॉ पीके पाणी, टाटा कॉलेज के प्राचार्य डॉ एसके दास, परीक्षा नियंत्रक अजय कुमार चौधरी, विश्वविद्यालय के खेल प्रभारी डॉ एमएन सिंह, टाटा कॉलेज के पूर्व प्राचार्य प्रोफेसर कस्तूरी बोईपाई, जगन्नाथपुर डिग्री कॉलेज के पूर्व प्राचार्य डॉ केएन प्रधान, जगन्नाथपुर डिग्री कॉलेज के प्रभारी प्राचार्य विकास मिश्रा, टाटा कॉलेज के खेल प्रभारी अर्जुन बिरूवा, पीटीआई अजय सामड, रिंकी दोराई, डॉ संजय गोराई के अलावा काफी संख्या में कोल्हान विश्वविद्यालय के पदाधिकारी और शिक्षक उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...