पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पश्चिम बंगाल में रेलवे ट्रैक जाम:रेलवे ट्रैक जाम का साइड इफैक्ट, बसों में पैर रखने की जगह नहीं, छत पर बैठकर घर जा रहे स्टूडेंट्स

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिहार, बंगाल, घाटशिला, धालभूमगढ़ जाने वाली बसों में ठूंस-ठूंस जा रहे लोग - Money Bhaskar
बिहार, बंगाल, घाटशिला, धालभूमगढ़ जाने वाली बसों में ठूंस-ठूंस जा रहे लोग

पश्चिम बंगाल में रेलवे ट्रैक जाम होने के कारण जमशेदपुर से बिहार, बंगाल के पुरुलिया, घाटशिला, धालभूमगढ़, चाकुलिया आदि जगहों तक चलने वाली बसों में काफी भीड़ देखी जा रही है। कुछ बसों में तो पैर रखने तक की जगह नहीं है। लोग जैसे-तैसे बसों में सवार होकर अपने गंतव्य स्थान तक जा रहे हैं। वहीं, स्टूडेंट्स बसों की छतों पर चढ़ यात्रा कर रहे हैं। जबकि बिहार जाने वाली बसों में भी यात्रियों की भारी भीड़ देखी जा रही है। धालभूमगढ़, घाटशिला, गालूडीह, चाकुलिया, बंगाल के पुरुलिया समेत कई जगहों के विद्यार्थी रोजोना ट्रेनों से जमशेदपुर आना जाना करते हैं।

ट्रैन नहीं चलने के कारण बसों में विद्यार्थी जैसे-तैसे आना जाना कर रहे हैं। अभी बीए, बीएसी समेत अन्य परीक्षाएं चल रही हैं। बस संचालक प्रफुल्लय पांडेय ने बताया कि ट्रेन बंद होने के कारण बसों में भीड़ हो रही है। शुक्रवार तक भीड़ सामान्य होने का अनुमान लगाया जा रहा है। बिहार के विभिन्न जगहों पर रोजाना 60 से 65 बसें जाती हैं। जबकि घाटशिला की ओर मानगो बस स्टेंड से हर आधे घंटे में एक बस खुलती है। इनमें स्टूडेट्स की संख्या ज्यादा है।

खबरें और भी हैं...