पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जल स्रोतों को संरक्षित करने के लिए कानून की मांग:निर्दलीय विधायक सरयू राय ने कहा- नदियों को बचाने के लिए 15 दिनों में कानून नहीं बना, तो लाएंगे निजी विधेयक

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जमशेदपुर के निर्दलीय विधायक सरयू राय - Money Bhaskar
जमशेदपुर के निर्दलीय विधायक सरयू राय

जमशेदपुर के निर्दलीय विधायक सरयू राय ने राज्य सरकार से स्वर्णरेखा और अन्य नदियों को प्रदूषण से बचाने के साथ ही उसके जल स्रोतों को संरक्षित करने के लिए कानून बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैबिनेट बैठक बुलाकर 15 दिनाें के अंदर इसके लिए विधेयक लाने की घोषणा करें, वर्ना विधानसभा के मॉनसून सत्र में वे निजी विधेयक लाएंगा। जिस तरह से नगरीय प्रदूषण बढ़ रहा है, 20 साल बाद शहर रहने लायक नहीं रहेगा। सरकार इसके लिए ठाेस प्लानिंग करे, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान बनाकर नदी प्रदूषित हाेने से बचाए। उन्होंने सुवर्णरेखा नदी को नागरीय प्रदूषण से बचाने का अभियान चलाने की घोषणा की।

सरयू राय शनिवार को जमशेदपुर के बिष्टुपुर स्थित आवास पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्हाेंने कहा कि नगर निकायों और नदी किनारे बसे घराें के कारण नदियों में प्रदूषण बढ़ा है। इसे राेकने के लिए झारखंड सरकार को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाना चाहिए। साेमवार को रांची में इसे लेकर सीएम हेमंत साेरेन से मिलेंगे। सरयू राय ने कहा कि टाटा लीज एरिया में सीवरेज सिस्टम है, लेकिन इसके अलावा पूरे शहर से लेकर झारखंड के 44 नगर निगम क्षेत्र में कहीं भी सीवरेज ट्रीटमेंट की व्यवस्था नहीं है। इसके अलावा ठोस कचरा, मेडिकल कचरा, हानिकारक कचरा से निबटारे की काेई व्यवस्था नहीं है। नदी, नालों का अतिक्रमण हो रहा है।

खबरें और भी हैं...