पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

श्रावण मास:25 फीट की ऊंचाई से गिरते जलप्रपात में स्नान कर श्रद्धालुओं ने शिवलिंग पर किया जलार्पण

चाईबासा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रावण मास की चौथी सोमवारी पर मुर्गा महादेव मंदिर में कोल्हान और ओडिशा के लगभग 80 हजार श्रद्धालुओं ने जलाभिषेक किया। रविवार को मध्य रात्रि में मंदिर का मुख्य द्वार खुलते ही बोलबम के जयघोष के साथ डाक बम और कांवरियों का हुजूम जलाभिषेक के लिए उमड़ पड़ा। कोल्हान व क्योंझर जिला के आसपास क्षेत्र में आस्था का केंद्र बिंदु बने इस धवलेश्वर मंदिर में अंतिम सोमवारी को शनिवार की रात से ही श्रद्धालुओं का आगमन आरंभ हो गया था। इसमें कांवारिया, डाकबम आदि शामिल थे। इस वर्ष सबसे ज्यादा भक्तों ने चाईबासा, झींकपानी, जगन्नाथपुर, रामतीर्थ एंव ओडिशा के विभिन्न पवित्र जलस्रोत से जल लेकर मुर्गा महादेव मंदिर में जलाभिषेक किया।

महिलाओं और बच्चों ने भी बढ़-चढ़कर भाग लिया। भक्त अपने आराध्य की पूजा करने के लिए 25 फीट की उंचाई से गिरते जलप्रपात में स्नान के बाद महिला और पुरुष अलग-अलग पंक्तिबद्ध होकर शिवलिंग पर दूध, पानी और चढ़ावा चढ़ाया। यहां बढ़ती भीड़ और डाक बम की सुविधा के लिए शिवलिंग पर दूध अथवा जल चढ़ाने के लिए बाहर ही व्यवस्था की गई थी। मंदिर के प्रवेश द्वार पर नारियल फोड़ा जा रहा था। धवलेश्वर मंदिर समिति के सचिव वीरो नायक अन्य सदस्यों के साथ मंदिर परिसर में रात भर श्रद्धालुओं की सेवा में लगे रहे।

विधि-व्यवस्था के लिए जोड़ा पुलिस और निजी सुरक्षा बल की थी तैनाती

मंदिर परिसर में विधि-व्यवस्था के लिए जोड़ा पुलिस के साथ माइंस के निजी सुरक्षा बल तैनात थे। वहीं किसी भी प्रकार की परेशानी से निपटने और सहयोग के लिए सहायता केन्द्र भी खोले गए थे। कांवरियों और अन्य श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए चाईबासा से मुर्गा महादेव मंदिर मार्ग और नोवामुंडी व आसपास कई जगहों पर अस्थायी विश्राम स्थल बनाए गए थे, जहां भंडारा लगाकर भक्तों की सेवा में नींबू पानी, नाश्ता और चिकित्सा सुविधा प्रदान की जा रही थी।

खबरें और भी हैं...