पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पांवटा में 7 पंचायतों ने मांगा जनजातीय दर्जा:गोरखुलवाला मंदिर में की बैठक, बोले- शामिल नहीं किया तो होगा विरोध

पांवटा साहिब2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में शामिल होने के लिए आए 7 पंचायत के लोग। - Money Bhaskar
बैठक में शामिल होने के लिए आए 7 पंचायत के लोग।

हिमाचल में सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के हाटी समुदाय को जब से जनजातीय दर्जा देने की मांग दिल्ली में कैबिनेट की बैठक में पारित हुई है, तब से कभी एससी, तो कभी गुर्जर समाज इसका विरोध कर रहे हैं। कहीं जगह हाटी शामिल करने की मांग उठ रही है। अब सिरमौर के पांवटा साहिब विधानसभा क्षेत्र की 7 पंचायतों के लोग भी अब हाटी बनने की मांग कर रहे हैं। इन पंचायतों को जनजातीय दर्जा नहीं दिए जाने को लेकर बैठक हुई है।

ये बैठक गोरखुवाला हनुमान मंदिर में आयोजित की गई। इस बैठक में गिरिपार क्षेत्र के तहत आने वाली 7 पंचायतों के लोगों ने भाग लिया। बैठक की अध्यक्षता विनय कुमार सोनू की अध्यक्षता में संपन्न हुई। इस बैठक में डोबरी सालवाला, गोरखुवाला, मानपुर देवड़ा, सिंघपूरा, भंगानी, गोजर, खोदरी माजरी को जनजातीय दर्जे में शामिल करने की मांग उठी। वक्ताओं ने कहा कि यदि हमारी मांग को सरकार ने नहीं माना तो इसका विरोध शांतिपूर्ण तरीके से करेंगे।

इस मौके पर सभी सात पंचायतों के लोगों ने कहा कि अगर दर्जा नहीं दिया जाता आने वाले चुनाव में इसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड़ सकता है। इस बैठक में लोगों ने कहा कि इन पंचायतों को ST एरिया में डाला गया है, लेकिन क्षेत्र के लोग एसटी में नही आ रहे है।