पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेवाड़ी में अग्निपथ के विरोध में कांग्रेस का प्रदर्शन:वर्करों के बीच पहुंचे सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा; बोले- इस योजना से हरियाणा को ज्यादा नुकसान

रेवाड़ी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रेवाड़ी के राजीव चौक पर आयोजित सत्याग्रह में शामिल होने पहुंचे सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा। - Money Bhaskar
रेवाड़ी के राजीव चौक पर आयोजित सत्याग्रह में शामिल होने पहुंचे सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा।

भारतीय सेना में अग्निपथ स्कीम का विरोध जताने के लिए सोमवार को रेवाड़ी में कांग्रेसी नेता एवं कार्यकर्ता सत्याग्रह पर बैठे। राजीव चौक पर आयोजित 3 घंटे के सत्याग्रह में शामिल होने के लिए कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा पहुंचे। इसके साथ ही पूर्व मंत्री कैप्टन अजय, रेवाड़ी विधायक चिरंजीव राव, पूर्व विधायक यादुवेन्द्र सिंह भी मौजूद रहे।

मीडिया से बात करते हुए सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा ने कहा कि अग्निपथ योजना ना राष्ट्रीय हित, ना फौज और ना ही नौजवानों के हित में हैं। उन्होंने कहा कि वे इस योजना का पूरजोर विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि हम देश की सेना को किसी भी कीमत पर कमजोर होता नहीं देख सकते। इस योजना से देशभर के नौजवानों में तो गुस्सा है ही साथ ही हरियाणा जिसमें खासकर दक्षिणी हरियाणा का बड़ा नुकसान है। यहां बड़ी संख्या में नौजवानों में देश की सेवा का जोश भरा है।

हर वर्ष 5 हजार नौजवान हरियाणा से सेना में भर्ती हुए। पिछले 3 साल से तो भर्ती निकली नहीं, लेकिन जब 2019 में भर्ती हुई थी तो 5 हजार से ज्यादा नौजवानों का सलेक्शन हुआ। लेकिन इस स्कीम से सिर्फ 963 अग्निवीर ही हरियाणा से हर साल भर्ती होंगे, उनमें भी करीब 225 को ही पक्की नौकरी मिलेगी। सांसद दीपेन्द्र हुड्‌डा ने कहा कि रेवाड़ी, झज्जर, नारनौस, गुरुग्राम और भिवानी जिलों के साथ-साथ हमारे पड़ोसी राज्य राजस्थान के भी कुछ इलाकों को बड़ी नुकसान होगा।

दरअसल, कांग्रेस अग्निपथ स्कीम का शुरू से ही विरोध जता रही हैं। कांग्रेसियों का कहना है कि अग्निपथ स्कीम ना सेना और ना ही नौजवानों के लिए ठीक है। केन्द्र सरकार को इस स्कीम को तुरंत वापस लेना चाहिए। इसके विरोध में सोमवार को राजीव चौक पर सुबह 10 बजे कांग्रेस का सत्याग्रह शुरू हुआ।

सत्याग्रह दोपहर 1 बजे तक चला। सत्याग्रह में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और नेता जुटे हुए। कांग्रेस के प्रदर्शन को देखते हुए जिला सचिवालय के आसपास कड़ी सुरक्षा रही।