पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अस्पताल में चिकित्सकों व स्टाफ टॉयलेट रहेंगे पब्लिक टॉयलेट:अस्पताल के निरीक्षण पर पहुंचे डीसी, व्यवस्थाओं का लिया जायजा, महिला शौचालय का फ्लश तक चलवाकर देखा

रेवाड़ी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिविल अस्पताल में लाइन में लगकर व्यवस्था का जायजा लेते डीसी अशोक गर्ग। - Money Bhaskar
सिविल अस्पताल में लाइन में लगकर व्यवस्था का जायजा लेते डीसी अशोक गर्ग।

डीसी अशोक कुमार गर्ग ने स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लेने के लिए बुधवार की सुबह शहर के सरकुलर रोड स्थित सिविल अस्पताल पहुंच गए। अस्पताल का औचक निरीक्षण किया और व्यवस्थाओं की जानकारी ली। डीसी ओपीडी काउंटर पर लगी लाइन में स्वयं खड़े होकर कर्मचारियों की व्यवहार का आंकलन किया।

डीसी ने काउंटर पर स्लिप ले रहे लोगों से भी बातचीत करते हुए अस्पताल प्रबंधन की कार्यशैली को देखा। अस्पताल में भू-तल पर स्थित स्टाफ टायलेट का निरीक्षण करते हुए उन्होंने तुरंत प्रभाव से स्टाफ टायलेट की प्लेट को हटाकर पब्लिक टायलेट की प्लेट अंकित करने के आदेश मौके पर मौजूद चिकित्सा अधिकारियों को दिए।

उन्होंने अस्पताल में स्थित पब्लिक टायलेट की सफाई व्यवस्था को भी देखा और निरंतर सफाई कार्य करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। उन्होंने नागरिक अस्पताल में मौजूद मरीजों व उनके अटेंडेंट से बातचीत करते हुए मिल रही स्वास्थ्य सेवाओं की जानकारी ली।

अस्पताल परिसर में मरीजों व परिजनों के लिए बैंच की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। दवाओं की उपलब्धता की जानकारी ली। साथ ही ब्लड बैंक का भी दौरा किया। डीसी ने नागरिक अस्पताल मे सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने के भी आदेश संबंधित अधिकारियों को दिए। डीसी के साथ सीटीएम देवेंद्र शर्मा, सीएमओ डॉ. कृष्ण कुमार सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

डॉक्टर से लेकर पैरा मेडिकल स्टाफ रहा अलर्ट : डीसी गर्ग के निरीक्षण के समय नागरिक अस्पताल में डॉक्टर से लेकर पैरा मेडिकल स्टाफ भी अलर्ट रहे। हर ओपीडी में डॉक्टर होने के साथ ही रिसेप्शन पर भी कर्मचारी बैठे दिखाई दिए। इसके अलावा वार्डों में स्टाफ नर्स और एएनएम भी तैनात रही। डीसी ने सफाई व्यवस्था को भी जांचा।

प्रसूता ने कहा- घर से लाते हैं खाना : नई बिल्डिंग के महिला टॉयलेट में टूटे डस्टबीन की जगह डीसी ने नए रखवाने का निर्देश दिए। साथ ही महिला व पुरुष टॉयलेट में कुछ जगह से टाइल को उखड़ी देखकर रिपेयरिंग के लिए भी निर्देश दिए। इतना ही नहीं महिला टॉयलेट में फ्लश भी चलवाकर देखा कि पानी आ रहा है या नहीं।

पुरानी बिल्डिंग के जच्चा-बच्चा वार्ड में एक महिला से डीसी ने पूछा कि उनको खाना मिलता है कि नहीं, जवाब में महिला ने कहा कि हम तो घर से लाते हैं। इस पर डॉक्टर भी एक-दूसरे को देखते रह गए। क्योंकि डिलीवरी के बाद जच्चा को खाना दिए जाने के भी निर्देश हैं। नई बिल्डिंग के उखड़े प्लास्टर और टूटी खिड़कियों के बारे में भी जल्द इसके समाधान की बात कही।

खबरें और भी हैं...