पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानीपत उद्यमी हुए एकजुट:सरकार को दी चेतावनी; PNG का बढ़ाए अल्टीमेटम, नहीं तो करेंगे पलायन, 4 लाख लोग होंगे बेरोजगार

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मीटिंग में मुद्दों को लेकर विचार-विमर्श करते उद्योगपति। - Money Bhaskar
मीटिंग में मुद्दों को लेकर विचार-विमर्श करते उद्योगपति।

केंद्र सरकार द्वारा दिए गए 30 सितंबर तक उद्योगों को पीएनजी पर शिफ्ट करने के अल्टीमेटम पर पानीपत के सभी इंडस्ट्रियल एकजुट हो गए हैं। आज पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के बैनर तले सभी उद्योगों से जुड़े उद्योगपति इकट़्ठा हुए। सभी ने मिलकर कई बड़े फैसले लिए। जिसमें मुख्यत: कहा गया कि सरकार पीएनजी पर शिफ्ट करने के दिए गए अल्टीमेटम को आगे बढ़ाए, नहीं तो पानीपत के उद्योगपति यहां से पलायन करने को मजबूर होंगे।

अगर पानीपत से उद्योग या उद्योगपति पलायन करेंगे तो 4 लाख लोग बेरोजगार हो जाएंगे। वहीं, उद्योगपतियों का कहना है कि सरकार बिजली आपूर्ति सही करें। लाइनलॉस का खर्चा उद्योगपती वहन नहीं करेंगे। इसके अलावा पानीपत को एनसीआर से बाहर करने की भी मांग को उद्योगपतियों ने रखा है। इसके अलावा जो इंडस्ट्री वर्षों वर्ष से चल रही है, उन्हें भी सरकार सीएलयू दें। अगर सीएलयू नहीं दे सकते तो कोई न कोई ऐसा प्रावधान ऐसा निकाला जाए, जिससे ये इंडस्ट्रियां भी रेगूलर हो जाएं।

क्योंकि इन इंडस्ट्री में भी अनेकों कर्मचारी काम करते हैं। मीटिंग में पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के प्रधान प्रीतम सिंह सचदेवा, सक्रेट्ररी धनराज बंसल, कोषाध्यक्ष अनिल बंसल, संरक्षक अशोक गुप्ता व अविनाश पालीवाल समेत तमाम उद्योगपति मौजूद रहे।

तीन राज्यों के लिए सरकार ने जारी किए हैं कड़े निर्देश
उद्यमियों को पीएनजी के कनेक्शन लेने की समय सीमा में कोई राहत नहीं मिली है। कमीशन फोर एयर क्वालिटी मैनेजमेंट ने हरियाणा , राजस्थान व उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव, एसीएस व प्रदूषण बोर्ड के मैंबर सचिव को पत्र जारी कर किसी भी प्रकार की राहत देने से इंकार कर दिया है। अब उद्यमियों को हर हाल में 30 सितंबर तक उद्योगों को पीएनजी पर शिफ्ट करना होगा। कोयले पर चलने पर उद्योगों पर ताला लगा दिया जाएगा।

अब उद्यमी इस फैसले के लिए खिलाफ रणनीति तय कर रहे हैं। उद्यमियों ने इस संबंध में सेक्टर 25 स्थित होटल डेज में मीटिंग की। मीटिंग में पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन, सेक्टर 29 इंडस्ट्रियल एसोसिएशन, डायर्स एसोसिएशन व फैबरिक एसोसिएशन के पदाधिकारी मीटिंग में पहुंचे। उद्यमियों ने मीटिंग में सरकार से पानीपत को एनसीआर से बाहर निकालने की मांग उठाई। उद्यमियों ने पीएनजी के रेट कम करने की भी मांग की है। इस संबंध में उद्यमी जल्द सांसद संजय भाटिया से मिलकर पर्यावरण मंत्री से मिलने के समय मांगेंगे।

पानीपत को करें एनसीआर से बाहर- भीम
डायर्स एसोसिएशन प्रधान भीम राणा ने कहा कि पानीपत को एनसीआर में होने का बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। पानीपत को एनसीआर की कोई सुविधा नहीं मिल रही है। पानीपत को इसका करोड़ों रुपये का नुकसान हो चुका है। हम दूसरे प्रदेश के उद्यमियों से कंपीटिशन नहीं कर पा रहे हैं। अब पीएनजी की बाध्यता से उद्योग बंद हो जाएंगे।

सरकार पीएनजी पर शिफ्टिंग का वक्त बढ़ाए- प्रीतम
पानीपत इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के प्रधान प्रीतम सचदेवा ने कहा कि कमिशन ने 30 सितंबर के बाद कोयला संचालित उद्योगों को बंद करने का फैसला किया है। इतने कम समय पर उद्यमी पीएनजी का कनेक्शन नहीं ले सकते। कमिशन से मांग है कि इसकी तिथि को आगे बढ़ाया जाए। उद्योगों में बिजली व्यवस्था को सुधारें।

खबरें और भी हैं...