पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानीपत पहुंचे नवीन जयहिंद:पेंशन के मुद्दे पर CM को घेरा; दशहरे पर जनता से सरकार के पूतले फूंकने की अपील

पानीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पेंशन के लिए नंबर जारी करते हुए नवीन जयहिंद।

हरियाणा के पानीपत शहर के स्काई लाई रेस्त्रां में सोमवार को नवीन जयहिंद पहुंचे। यहां उन्होंने पत्रकार वार्ता की। उन्होंने जीवत बुजुर्गों को मृत दिखा कर उनकी पेंशन बंद करने के मुद्दे पर सरकार पर जमकर भड़ास निकाली। खासतौर से डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला के खिलाफ बोले।

उन्होंने कहा कि बुजुर्गों को सम्मान स्वरूप पेंशन देने की योजना स्व. ताऊ देवी लाल की थी। उनके परिवार के सदस्य आज सरकार में बैठे होने के बावजूद भी और सुविधाएं देने की बजाय, बुजुर्गों को और परेशानियां देने का काम कर रहा है। यह बहुत गलत है। देवी लाल के नाम पर वोट खाने वाले, नोट भी खा रहे हैं। उनकी जयंती पर सभी कार्याकर्ताओं को भेजकर बुजुर्गों की पेंशन के मसले का हल करना चाहिए था।

जिंदा साबित करने को निकालनी पड़ी बरात

नवीन जयहिंद ने कहा कि 102 वर्षीय दादा दुलीचंद को मृत घोषित कर दिया था। उन्हें खुद को जीवित बताने के लिए अपनी बरात तक निकालनी पड़ी। बरात का नाम थारा फूफा अभी जिंदा है, रखा गया था। यह बरात मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंची, जिसके बाद प्रदेशभर में इस तरह के मामलों की जांच के आदेश दिए गए। सबसे ज्यादा मामले यमुनानगर जिले से आए हैं। अगर बात सिर्फ सरकारी आंकड़ों की करें तो वह स्थिति भी भयावह है।

नवीन बोलें- पेंशन में हो टेंशन तो करें सरकार के फूफा को कॉल

पत्रकार वार्ता के दौरान नवीन जयहिंद ने सरकार द्वारा पेंशन बनाने के लिए हर जिले में जारी किए गए सरकारी नंबरों को दिखाया। उन्होंने दिखाया कि सरकारी नंबर 8901195796 है। अगर इस नंबर पर कॉल करने के बाद भी पेंशन नहीं बन रही या किसी तरह की समस्या आ रही है तो सरकार के फूफा 102 वर्षीय दादा दुलीचंद 7027811811 को कॉल करें। इस नंबर पर कॉल करने के बाद पेंशन जरूर बनेगी।

शिक्षा मंत्री नर्सरी के एडमिशन टेस्ट पास करें तो मैं करुंगा जय-जयकार

एक बार फिर नवीन जयहिंद ने हरियाणा सरकार के मंत्रियों को अपने शब्दों से घेरा। खासतौर से शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुज्जर की शिक्षा पर सवाल उठाए। उन्होंने मंत्री को 10वीं पास कहा। वे बोले कि अगर शिक्षा मंत्री नर्सरी के बच्चे की स्कूल में दाखिला लेने की प्रक्रिया को ही पास कर देंगे तो वे उनकी पूरे प्रदेश में जय-जयकार करेंगे।

दशहरे पर रावण के नहीं, सरकार के पुतले फूंके लोग

नवीन जयहिंद ने कहा कि रावण तो बुद्धिमान था। उनका पुतला क्यों फूंका जा रहा है। दशहरे पर मंत्रियों, नेताओं, विधायकों से रावण के पुतले फूंकवाए जाते हैं, जबकि हकीकत में इन लोगों के ही पुतले फूंके जाने चाहिएं। विद्यार्थी शिक्षा मंत्री का पुतला फूंके। अपराधियों का शिकार हो चुके पीड़ित लोग गृहमंत्री का पुतला फूंके। फसलों का नुकसान झेल रहे किसान कृषि मंत्री का पुतला फूंके। इसी तरह जो भी जिस महकमे से पीड़ित है, वह उसी से संबंधित मंत्रियों का पुतला फूंके।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार इतने लोगों की कटी पेंशन

- 1 लाख 75 हजार 298 लोगों की पेंशन काटी गई। - फैमिली आईडी के बाद 1 लाख 4 हजार 55 लोगों की पेंशन काटी गई। - 14 हजार 641 बुजुर्गों को मृत दिखाकर पेंशन काटी गई। - 18581 महिलाएं, जो विधवा हैं, उनके पति जीवित दिखाकर पेंशन काटी गई। - 34703 लोगों की 50 हजार से ज्यादा इनकम दिखाकर पेंशन काटी गई। - 33600 लोगों को रिटायर्ड फौजी बताकर पेंशन काटी गई। - 4500 विकलांग लोगों की पेंशन काटी गई। - 2404 सरकारी कर्मचारियों की पेंशन काटी गई। - 2044 बेटियों की लाडली योजना के तहत पेंशन काटी गई। - 2 लाख ऐसे लोग हैं, जो 60 वर्ष के हो गए हैं, लेकिन उनकी पेंशन नहीं बनी।