पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गैंगस्टर मनोज बाबा का अवैध निर्माण ध्वस्त:प्रशासन ने फैक्ट्री-गोदाम ढहाया; कार्रवाई से परिजन भड़के; 15000 का इनामी बदमाश भगोड़ा

पानीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पानीपत शहर में गैंगस्टर मनोज बाबा की संपत्ति पर हुए अवैध निर्माण के खिलाफ प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है। 15000 के इनामी भगोड़े गैंगस्टर मनोज बाबा द्वारा गांव उग्राखेड़ी के सामने पीर वाली गली में अवैध निर्माण करके करीब 4 एकड़ जमीन पर फैक्ट्री व गोदाम बनाया हुआ था, जिसे आज ढहा दिया गया।

इस दौरान प्रशासन कर्मियों के साथ पुलिस बल भी मौजूद रहा। वहीं प्रॉपर्टी ढहाए जाने की सूचना मिलते ही गैंगस्टर मनोज बाबा के परिवार के कुछ सदस्य भी मौके पर पहुंचे, जिन्होंने इस कार्रवाई को गलत ठहराया, मगर प्रशासन कर्मियों ने उनकी एक नहीं सुनी और पीला पंजा चलाकर फैक्ट्री और गोदाम को ध्वस्त कर दिया।

15 हजार का इनामी गैंगस्टर मनोज बाबा।
15 हजार का इनामी गैंगस्टर मनोज बाबा।

DTP बोले- दो बार दिया जा चुका नोटिस

जानकारी देते हुए DTP धीरेंद्र सिंह ने बताया कि साल 2018 में खेती बाड़ी की इस जमीन पर मनोज बाबा उसके दो भाइयों जगपाल व दिलबाग पुत्र बलदेव सिंह ने अवैध रूप से निर्माण किया था। करीब 4 एकड़ की इस जमीन पर न केवल अवैध निर्माण किया, बल्कि फैक्ट्री व गोदाम भी बना दिया। जबकि नियमों के अनुसार खेतीबाड़ी की जमीन को व्यवस्यायिक तौर पर इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं। दो नोटिस भी दिए जा चुके थे, जिसमें एक नोटिस शोकॉज व दूसरा नोटिस अवैध निर्माण गिराओ का था, मगर मनोज बाबा व उसके दोनों भाइयों ने इस संपत्ति को खाली नहीं किया, जिसके चलते आज यह कार्रवाई की गई।

मौके पर पहुंचे मनोज के भाई संजय बाबा जानकारी देते हुए।
मौके पर पहुंचे मनोज के भाई संजय बाबा जानकारी देते हुए।

निजी बस संचालकों से अवैध वसूली मामले में आरोपी बाबा

जानकारी देते हुए DSP प्रदीप कुमार ने बताया कि गैंगस्टर मनोज बाबा सेक्टर 24 का रहने वाला है, जो पानीपत पुलिस का इनामी बदमाश भी है। उस पर निजी बस संचालकों से मारपीट करने, अवैध वसूली करने व लूटपाट करने जैसी संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज है। उक्त मामले में गैंगस्टर पर 15000 का इनाम भी पानीपत पुलिस द्वारा रखा गया है। अभी वह पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।
टारगेट कर की कार्रवाई: संजय बाबा
प्रशासन के पीला पंजा पहुंचने की खबर मिलते ही मौके पर गैंगस्टर मनोज बाबा के भाई संजय बाबा पहुंचे। उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत करने की कोशिश की। उन्होंने प्रशासन को कहा कि यह निर्माण मनोज का नहीं है। यह जगपाल और दिलबाग का निर्माण है।

वहीं, पत्रकारों से बातचीत में संजय ने कहा कि यह कार्रवाई एक टारगेटिड कार्रवाई है। मनोज के नाम जो भी प्रॉपर्टी है, अगर प्रशासन उस पर कार्रवाई करें, तो हम उनके साथ खड़े होकर कार्रवाई करवाएंगे। मगर जो, उसके नाम है ही नहीं, उसे प्रशासन नजायज तौर पर तोड़ रहा है। अगर उन्होंने तोड़फोड़ की कार्रवाई करनी भी है तो सभी अवैध निर्माण पर करें।