पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %

चढ़ूनी बोले- अभी खत्म नहीं होगा किसान आंदोलन:कहा- किसानों पर दर्ज सारे केस वापस होना जरूरी, वरना जाट आंदोलन वालों की तरह भुगतते रहेंगे

करनाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय किसान यूनियन के नेता गुरनाम चढ़ूनी ने ऐलान किया कि किसान आंदोलन निरंतर चलेगा। अभी तक सरकार ने 3 कृषि कानून वापस लिए हैं। ये किसानों की मांग पूरी हुई है। MSP और किसानों पर मुकदमे ज्यों के त्यों दर्ज है। ऐसे में आंदोलन पूरा नहीं हुआ। कानून वापस लेने पर ही यदि आंदोलन खत्म किया तो आने वाला समय किसानों को जाट आंदोलन में शामिल लोगों की तरह भुगतना पड़ेगा। बाद में किसी भी बात पर सुनवाई नहीं होगी।

गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि हरियाणा में 48 हजार किसानों पर मुकदमे दर्ज है। दिल्ली में सैकड़ों किसानों पर केस दर्ज हैं। जब तक एक-एक किसान का मुकदमा वापस नहीं होता, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। शहीद किसानों के परिवारों को मुआवजा दिलवाने की बात है। जिसके लिए पहले से प्रयास चल रहे हैं। उसके लिए भी सरकार ने मुंह नहीं खोला है। सिर्फ कमेटी बनाने की बात कही है। कमेटी किसकी बनाएंगे। कमेटी कितने दिन में रिपोर्ट देगी। कमेटी की बात को मानेंगे या नहीं। कुछ भी स्पष्ट नहीं है।

4 दिसंबर तक सरकार के फैसले का इंतजार करेंगे

हम जिस मुद्दे पर इकट्‌ठे हुए थे। उस मुद्दे को सरकार ने मान लिया है। 3 काले कृषि कानून को वापस लेने पर साथियों को बधाई देते हैं। आंदोलन निरंतर जारी रहेगा। 4 दिसंबर तक सरकार के फैसले का इंतजार करेंगे। 4 को संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक है। इस आंदोलन में सबसे ज्यादा भूमिका करनाल की रही है। सभी साथियों को फिर से धन्यवाद।

आंदोलन में हरियाणा का योगदान सबसे ऊपर

उन्होंने कहा कि इस आंदोलन में हरियाणा का योगदान सबसे ऊपर रहा है। चाहे बात लठ खाने की हो, सिर फुड़वाने की हो या फिर सरकार के अत्याचार सहने की हो। हमने हाथ नहीं उठाया, लेकिन पीठ दिखाकर भागे भी नहीं। जगह-जगह लाठीचार्ज हुए। हजारों किसानों ने, हमारी माताओं बहनों ने लठ खाएं, पर सिर फड़वाकर कभी नहीं भागे।

किसानों ने पूरे भाजपा नेताओं का बहिष्कार किया

करनाल वालों को सबसे ज्यादा बधाई हो, क्योंकि प्रदेश में सबसे ज्यादा योगदान करनाल का रहा है। आज हम जहां भी जाते हैं, वहां पर चर्चा चलती है कि ये वो हरियाणा वाले हैं, जिन्होंने सीएम का हेलिकॉपर नहीं उतरने दिया। सिर ऊंचा उठ जाता है, ऐसा सुनकर। हरियाणा में सबसे ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। किसानों ने पूरे भारत में भाजपा नेताओं का बहिष्कार किया। उनके कार्यक्रम रद्द करवाए। काले झंड़े दिखावाए। आपकी कुर्बानियों की वजह से दुनिया का सबसे हठी आदमी आपके सामने झुका और माफी मांगी। इसके लिए सभी बधाई के पात्र हैं।

खबरें और भी हैं...