पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

करनाल नगर निगम के वार्ड 7 का उपचुनाव:जिस पार्षद की मौत से खाली हुई सीट, उसी की पत्नी सरिता कालड़ा भाजपा की तरफ से लड़ेंगी चुनाव, आज भरेंगी नामांकन

करनाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड 7 के उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार सरिता कालड़ा नामांकन जमा कराती हुईं। - Money Bhaskar
वार्ड 7 के उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार सरिता कालड़ा नामांकन जमा कराती हुईं।

करनाल जिले की नगर निगम के वार्ड नंबर 7 के उप चुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार सरिता कालड़ा ने नामांकन दाखिल किया। इसके लिए सभी कार्यकर्ताओं को पहले सरिता के घर वार्ड 7 में इकट्ठा किया गया। वहीं से सभी जिला भाजपा कार्यालय में गए। जिला कार्यालय से जिला परिषद के कार्यालय पहुंचकर नामांकन दाखिल कराया।

रविवार रात 8 बजे भाजपा ने पार्टी के जिला कार्यालय में बैठक करके सुदर्शन कालड़ा की पत्नी को ही चुनाव लड़वाने का ऐलान किया था। सरिता कालड़ा पहले भी एक बार पार्षद रह चुकी हैं। जबकि सुदर्शन कालड़ा लगातार तीन बार पार्षद रहे हैं।

नामांकन दाखिल करके बाहर आतीं सरिता कालड़ा।
नामांकन दाखिल करके बाहर आतीं सरिता कालड़ा।

कब क्या होगा, जानिए चुनाव प्रक्रिया...
इस चुनाव के लिए नामांकन पत्र 17 सितंबर से लेकर 22 सितंबर तक भरे जाएंगे। नामांकन भरने का समय सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे तक का रहेगा। 19 सितंबर को रविवार होने के कारण अवकाश रहेगा। उस दिन नामांकन नहीं भरे जाएंगे।

नामांकन पत्र CEO जिला परिषद के कार्यालय में लिए जाएंगे। 24 सितंबर को सुबह 11:30 बजे से नामांकन की जांच की जाएगी। 25 सितंबर को सुबह 11 बजे से सायं 3 बजे तक नामांकन वापस लिए जा सकेंगे।

मतदान 3 अक्टूबर को सुबह 8 बजे से सायं 4:30 बजे तक करवाया जाएगा। मतदान के तुरंत बाद मतगणना होगी।

ये अधिकारी करवाएंगे चुनाव
इस उपचुनाव के लिए जिला परिषद के CEO गगनदीप सिंह को रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है। नायब तहसीलदार निसिंग रामकुमार को सहायक रिटर्निंग अधिकारी बनाया गया है। सचिव नगर निगम बल सिंह को हेल्पिंग ऑफिसर बनाया गया है।

कोरोना काल में हुई थी MC की मौत
शहर के वार्ड 7 के पार्षद सुदर्शन कालड़ा को मई में कोरोना संक्रमण हो गया था। कुछ दिनों के बाद वे इससे ठीक हुए तो सिर में दर्द अत्याधिक रहने लगा था। इसके बाद उन्हें मोहाला के फोर्टिस में ले जाया गया था। जहां पर डॉक्टरों ने उन्हें डायग्नोज में ब्लैक फंगस की बीमारी बताई। इलाज के दौरान की मई में मौत हो गई थी।

पार्षद सुदर्शन कालडा की कोरोना काल में हुई थी मौत।
पार्षद सुदर्शन कालडा की कोरोना काल में हुई थी मौत।
खबरें और भी हैं...