पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बैंक मैनेजर का अंतिम संस्कार:कुल्लू-मनाली में गाड़ी के ब्रेक फेल होने से हुए हादसे में गई थी विश्वास की जान

करनालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विश्वास सरदाना।(फाइल फोटो) - Money Bhaskar
विश्वास सरदाना।(फाइल फोटो)

हरियाणा के जिला करनाल में सेक्टर-12 स्थित ICICI बैंक में सीनियर मैनेजर विश्वास सरदाना का शव बुधवार को घर पहुंचा। उनका आज ही अंतिम संस्कार भी कर दिया गया। सोमवार को कुल्लू मनाली में बंजार घाटी के पर्यटन स्थल जिभी में मौसम खराब होने के कारण ट्रैकिंग नहीं कर पाए थे।

वापस लौटते समय ब्रेक फेल होने से उनकी गाड़ी 300 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में करनाल निवासी विश्वास सरदाना समेत 4 की मौत हो गई थी। हादसे में उनकी मंगेतर सनोली भी मृत बताई गई है। इसके साथ ही शादी वाले दोनों घरों में खुशियों का माहौल मातम में बदल गया।

दोनों परिवारों में जश्न का माहौल था। शादी की तैयारियां जोरों पर थीं, लेकिन विश्वास सरदाना और गुरुग्राम में बैंक कर्मी उनकी मंगेतर सलोनी साहनी 7 फेरे लेने से पहले ही दुनिया से चले गए। इकलौते बेटे की मौत से मां-बाप सदमे में हैं। बेटी की मौत के गम में भी परिवार का बुरा हाल है।

बुधवार को करनाल में किया गया अंतिम संस्कार।
बुधवार को करनाल में किया गया अंतिम संस्कार।

3 दिन की छुट्टी पर निकाला था टूर

परिजनों ने बताया कि विश्वास व साहनी अपने बैंक के साथियों के साथ कार में कुल्लू मनाली घूमने के लिए शुक्रवार को रवाना हुए। बैंक में शनिवार, रविवार व सोमवार की छुटि्टयां होने पर सभी साथियों ने टूर प्लान किया था। सभी ICICI काॅरपोरेट बैंक के कर्मचारी थे। अर्टिगा कार में इनके अलावा 4 साथी दिल्ली, गुरुग्राम व एक जीरकपुर का रहने वाला था।

कुल्लू मनाली में बंजार घाटी के पर्यटन स्थल जिभी में मौसम खराब होने के कारण वे ट्रैकिंग नहीं कर पाए और वापस लौट रहे थे, तभी ब्रेक फेल होने से उनकी गाड़ी 300 मीटर गहरी खाई में जा गिरी। इसमें करनाल निवासी 26 वर्षीय विश्वास सरदाना व चंदौसी यूपी निवासी 27 वर्षीय सलोनी साहनी समेत 4 युवा बैंक कर्मचारियाें की मौत हो गई।

बुधवार को करनाल में अंतिम संस्कार की तैयार करते परिजन।
बुधवार को करनाल में अंतिम संस्कार की तैयार करते परिजन।

समय पर इलाज नहीं मिल पाया

दोस्तों ने बताया कि शुक्रवार को हमसे मिलकर गए थे। वह उनकी आखिरी बाय-बाय रही। हमारे पास 4 की मौत की सूचना आई है। परिवार को, रिश्तेदारों व हमें काफी दुख है। लगभग 4 साल से जॉब करता था। रात को हादसा हुआ था। सुबह हादसे की जानकारी मिली। मौके पर ही पता लग जाता तो शायद इलाज मिलने से जान बच पाती।