पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60425.43-0.54 %
  • NIFTY18012.5-0.56 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47943-0.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61414-0.3 %

नीरज बवाना गैंग के 3 सदस्य गिरफ्तार:यूपी से अवैध पिस्तौल और कारतूस लेकर आ रहे थे, पुलिस ने कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिए

करनाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नीरज बवाना गैंग के तीन सदस्य पिस्तौल और कारतूस के साथ गिरफ्तार। - Money Bhaskar
नीरज बवाना गैंग के तीन सदस्य पिस्तौल और कारतूस के साथ गिरफ्तार।

करनाल पुलिस की स्पेशल स्टाफ असंध टीम ने नीरज बवाना गैंग के 3 आरोपियों को अवैध हथियारों सहित गिरफ्तार किया। आरोपी यूपी से दो अवैध पिस्तौल, 66 जिंदा कारतूस लेकर आ रहे थे। एक आरोपी के खिलाफ दिल्ली में भी केस दर्ज हैं। पुलिस ने तीनों को कोर्ट में पेशकर 3 दिन का रिमांड हासिल किया। रिमांड के दौरान आरोपियों से हथियार लाने के पीछे के मकसद का पता लगाया जाएगा।

सूचना मिलने के बाद पुलिस ने स्कॉर्पियो गाड़ी को रुकवाया
SI रामफल इंचार्ज सीआईए असंध के नेतृत्व में टीम महाराणा प्रताप चौक गोली टी-प्वाइंट सालवन पर मौजूद थी। इसी दौरान टीम को विश्वसनीय सूचना प्राप्त हुई कि एक काले रंग की स्कॉर्पियो गाड़ी बल्ला गांव की तरफ से अंसध जाएगी, जिसमें हथियार हैं। इस सूचना के कुछ देर बाद एक काले रंग की स्कॉर्पियो बल्ला की तरफ से आती हुई दिखाई दी। टीम ने गाड़ी को रूकवाकर उसमें बैठे लोगों से पूछताछ की तो उन्होंने अपने नाम अमित पुत्र कर्मबीर निवासी नाहरी जिला सोनीपत, अरविन्द पुत्र नरेन्द्र सिंह निवासी मॉडल टाउन जिला पानीपत और अमन कुमार पुत्र रणधीर सिंह निवासी ​​​​​​​रामरा गांव ​​​​​​ जिला जींद बताया।

नीरज बवाना गैंग के तीन सदस्य पिस्तौल और कारतूस के साथ गिरफ्तार।
नीरज बवाना गैंग के तीन सदस्य पिस्तौल और कारतूस के साथ गिरफ्तार।

पुलिस ने गाड़ी की तलाशी ली तो दो अवैध पिस्तौल, दो मैगजीन और 66 जिंदा कारतूस मिले। पुलिस टीम ने उन्हें गिरफ्तार कर गाड़ी को अपने कब्जे में ले लिया है। आरोपियों के खिलाफ थाना असंध में शस्त्र अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

दिल्ली में भी हैं केस दर्ज
मामले की आगामी तफ्तीश ASI अशोक कुमार सीआईए असंध को सौंपी गई। इस दौरान पूछताछ में खुलासा हुआ कि वह कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना के गैंग के सदस्य हैं। अवैध हथियारों और कारतूसों को उत्तर प्रदेश के एक शहर से खरीदकर लाए थे। जांच में यह भी खुलासा हुआ कि आरोपी अरविन्द के खिलाफ वर्ष 2015 में स्पेशल सेल दिल्ली में एक मामला शस्त्र अधिनियम और वर्ष 2019 में एक मामला थाना कंजावला दिल्ली में शस्त्र अधिनियम के तहत दर्ज है।

खबरें और भी हैं...