पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Haryana
  • Jind
  • Congress's 'Satyagraha' In Jind, Opposing The Introduction Of Agneepath Scheme By Abolishing The Old Method Of Recruitment In The Army

जींद में अग्निपथ के खिलाफ कांग्रेस का सत्याग्रह:सेना में भर्ती की पुरानी पद्धति को खत्म करने और सिर्फ 4 साल नौकरी का विरोध

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जींद में लघु सचिवालय के पास प्रदर्शन करते कांग्रेस कार्यकर्ता। - Money Bhaskar
जींद में लघु सचिवालय के पास प्रदर्शन करते कांग्रेस कार्यकर्ता।

हरियाणा के जींद में अग्रिपथ योजना के विरोध में सोमवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सफीदों के विधायक सुभाष गांगोली के नेतृत्व में प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मांग की कि अग्रिपथ योजना को तुरंत प्रभाव से रद्द किया जाए और सेना में नियमित भर्ती की जाए। प्रदर्शन से पहले कांग्रेस कार्यकर्ता लघु सचिवालय के निकट एकत्रित हुए।

विधायक सुभाष गांगोली ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाई जा रही अग्निपथ योजना से देश, जवान और किसान के भविष्य के साथ खिलवाड़ होने जा रहा है। जिसे अभी नहीं रोका गया तो यह युवाओं को ले डूबेगा। केंद्र सरकार भारतीय सेना में भर्ती की पुरानी पद्धति को खत्म कर अग्निपथ योजना को शुरू करने पर अड़ी है। सेना में जवानों की पक्की नौकरी में सीधी भर्ती बंद कर दी गई है।

धरने को संबोधित करते नेता।
धरने को संबोधित करते नेता।

थल सेना और वायु सेना में पक्की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो चुकी थी, उसमें फाइनल टेस्ट या नियुक्ति पत्र जारी करने बाकी थे, उसे भी रद्द कर दिया गया है। अब से सेना में भर्ती सिर्फ 4 साल के कॉन्ट्रैक्ट की नौकरी के जरिए होगी। इन अस्थायी कर्मचारियों को न तो कोई रैंक दिया जाएगा न ही 4 साल के बाद कोई ग्रेच्युटी या पेंशन। सेवा समाप्त होने के बाद इनमें से एक चौथाई या उससे भी कम को ही सेना में पक्की नौकरी दी जाएगी।

उन्होंने मांग की कि अग्रिपथ योजना को तुरंत प्रभाव से रद्द किया जाए। भर्ती का नोटिफिकेशन वापस लेकर सेना में नियमित भर्ती की जाए। जो भर्ती प्रक्रिया पूरी हो चुकी है उसे रद्द न करते हुए परिणाम घोषित किया जाए। धरने पर मुख्य रूप से हल्का जुलाना से पूर्व विधायक परमिंदर सिंह ढुल, रमेश सैनी, रोहित दलाल, बलवान मालिक, जगबीर ढिगाना, प्रदीप गिल, प्रमोद सहवाग और दलबीर रेढू समेत कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...