पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ठगी का चक्रव्यूह:विन मनी एप में 20 एजेंटों के जरिये एक हजार लोगों से निवेश करवाकर लाखों ठगे

हिसारएक महीने पहलेलेखक: महबूब अली
  • कॉपी लिंक

पहली किश्त

विनमनी एप में रुपए इन्वेस्ट कराकर अब तक हजारों लोगों से लाखों रुपए ठगे जा चुके हैं। हिसार स्थित पटेल नगर के एक बिजनेसमैन से ऐसे ही 18 लाख की ठगी हो चुकी हैं। अकेले हिसार जिले से 20 एजेंट के माध्यम से करीब सवा लाख लोग इस एप से जुड़े हैं, जिनका कराेड़ाें रुपए इनवेस्ट हाे चुका हैं। इनमें 1 हजार से ज्यादा फ्रॉड का शकिार हो चुके हैं, जो 50 हजार से 15 लाख रुपए तक गंवा चुके हैं, लेकिन सामने आने से कतरा रहे हैं।

इस एप से हरियाणा ही नहीं, बल्कि महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी, उत्तराखंड, पंजाब समेत कई राज्याें के लोग ठगे जा चुके हैं। जो लाेग ठगी की शकिायत करते हैं उन्हें रैकेट से जुड़े लोग धमकी देते हैं। हालांकि, कुछ लाेगाें ने कंज्यूमर काेर्ट में शकिायतें दे रखी हैं। अब एसपी लाेकेंद्र सिंह ने टीम गठित कर जांच शुरू करा दी है। पुलिस दूसरे राज्यों में भी दस्तक दे रही है। सूत्राें के अनुसार, ऐना विन मनी कंपनी काे संभाल रही है। ऐना के खिलाफ हिसार के बिजनेसमैन ने धाेखाधड़ी का केस भी दर्ज कराया है।

इन किस्सों से समझिए, किस तरह झांसे में लिया और आईडी कर दी ब्लॉक

केस 1
हिसार के पटेल नगर के एक बिजनेसमैन ने बताया कि एक माह पहले ही उसका टेलीग्राम पर विन मनी एप नामक कंपनी से जुड़े एक सदस्य से संपर्क हुआ। सदस्य ने कहा कि यदि वह एप से जुड़कर आईडी खरीदता है ताे उसे राेज ब्याज मिलेगा। यदि एक लाख जमा कराता है ताे हर दिन उसके खाते में 800 रुपए जिंदगीभर डाले जाते रहेंगे। झांसे में आकर चार आईडी खरीद ली तथा 20 लाख रुपए उसमें डलवा दिए। कुछ दिन रुपए आए, अब सभी आईडी ब्लाॅक कर दिया।

केस 2

हांसी के एक अन्य नाैकरीपेशा ने बताया कि वाॅट्सएप पर उसका संपर्क विन मनी से जुड़े सदस्याें से हुआ। जिन्हाेंने बताया कि कंपनी पिछले करीब 8 साल से काम कर रही है। कंपनी में आईडी नि:शुल्क खरीदी जाती है। यदि आप आईडी के खाते में एक लाख रुपए जमा कराते हैं ताे आपकाे राेज 800 रुपए खाते में डाले जाएगे। आप मेंबर बनाते हैं ताे उसका भी 10 प्रतिशत कमीशन मिलेगा। उसने 80 हजार रुपए डलवा दिए। इसके बाद उसकी आईडी काे बंद कर दिया गया।

केस 3

महाराष्ट्र के बुद्धलान के एक बिजनेसमैन ने बताया कि 2 माह पहले ही वह एक एजेंट के माध्यम से विन मनी एप से जुड़ा। उसने 4 आईडी पर करीब दाे लाख रुपए इनवेस्ट किए। कुछ समय ताे उसके खाते में रुपए आते रहे, मगर इसके बाद उसकी चाराें आईडी काे ब्लाॅक कर दिया गया। उसके करीब एक लाख रुपए ठग लिए गए। अब रुपए मांगने पर कंपनी के गुर्गे जान से मारने की धमकी देते हैं। बिजनेसमैन ने कंज्यूमर काेर्ट में मामले की शकिायत की है।

जानिए, ये है विन मनी एप

विन मनी एप काे बाहर से यह ज्वेलरी शाॅपिंग साइट दिखती है, ताकि सच्चाई से काेई वाकिफ न हो सके।

1. इस एप पर आईडी लेनी हाेती है, जाे कंपनी के गुर्गे लिंक भेज ऑनलाइन फार्म भरवा खाेलते हैं।

2. इस आईडी पर एक लाख या फिर उससे अधिक रुपए खाताें में डलवाते हैं, जिस राेज 800 रुपए तक देने की बात कहते हैं।

3. फिर आईडी लेने वाला अपनी चेन में सदस्य जाेड़ता है ताे उसे डाले रुपयाें में से भी 10 प्रतिशत तक कमीशन के रूप में देने का दावा है।

4. एक-एक व्यक्ति ने 5 से 10 तक आईडी ली है। एक सदस्य के चेन सिस्टम में 10 से लेकर 500 आैर 1 हजार तक भी लाेग जुड़े हैं।

5. जब 5 लाख से अधिक रुपए आईडी चलाने वाला डालता है ताे आईडी काे ब्लाॅक कर दिया जाता है।

खबरें और भी हैं...