पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Haryana
  • Hisar
  • Hansi's Transporter Accused, 8 Lakhs Cheated, Not Reported Even After One And A Half Months, Has Visited Cyber Cell And Officers 10 Times

विन मनी एप के जरिये निवेश के नाम पर ठगी:हांसी के ट्रांसपाेर्टर का आराेप, 8 लाख ठग लिये, डेढ़ माह बाद भी रिपोर्ट नहीं, 10 बार साइबर सेल और अफसरों के चक्कर लगा चुका

हिसार2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

विन मनी एप के जरिये नविेश कराकर निराेह हिसार ही नहीं देशभर में कई जगहाें के लाेगाें से लाखाें रुपये ठग चुका है। हिसार के पटेल नगर के बिजनेसमैन की शकिायत पर पुलिस ठग गिराेह के तीन गुर्गाें काे पकड़ चुकी है, मगर कुछेक एक मामलाें में शकिायत के बावजूद पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखाई। नतीजतन निराेह के सदस्य ठगी करते रहते हैं।

भास्कर ने हिसार व अन्य जिलाें व राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल के ऐसे 10 पीड़िताें से बात की, जिन्हें पिछले पांच से छह माह में विन मनी एप के जरिये नविेश कराकर ठगा जा चुका है। उनका कहना है कि निराेह के गुर्गे उन्हें धमकी दे रहे हैं। 9 लाेगाें ने नाम और पता नहीं छापने की शर्त पर ठगी के बारे में जानकारी दी। हांसी के पीड़ित ट्रांसपाेर्टर कर्मवीर का आराेप है कि ठगी के डेढ़ माह बाद उसकी रिपोर्ट दर्ज नहीं की है।

वहीं हांसी के साइबर सेल प्रभारी विपिन कुमार का कहना है कि उनके पास शकिायत जरूर आई थी। मामले की जांच सीआईए की मदद से की जा रही है। मगर रिपोर्ट दर्ज हुई या नहीं हुई उनकी जानकारी में नहीं है। सिटी थाना पुलिस को जानकारी होगी। उनके पास अधकिारियों से रिमार्क होने के बाद शकिायतें आती हैं। वहीं, हांसी के सिटी थाना प्रभारी हसीन खान का कहना है कि मामले की जानकारी उन्हें नहीं है।

पढ़िए... बातचीत में झलकी पीड़ितों की पीड़ा ... पैसे वापस मांगने और शकिायत पर मिल रही धमकी

हिसार महाबीर स्टेडियम के पास रहने वाले आर्मी व प्रतियाेगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले एक युवक ने बताया कि उसने विन मनी के कलर प्रिडकि्शन एप पर करीब 30 हजार रुपए इनवेस्ट किए। पहले ताे उसे गेम में जिताया जाता रहा। बाद में उसे हरा दिया। 10 और दाेस्ताें के 10 से 30 हजार रुपये तक ठग लिए गए। वहीं हिसार के एक गांव के किसान ने बताया कि पांच माह पूर्व उसने विन मनी पर गेम खेलना शुरू किया। शुरू में उसे जिताया जाता रहा, मगर अब 15 हजार रुपए हड़पकर आईडी बंद कर दी।

हांसी के ट्रांसपाेर्टर कर्मवीर ने बताया कि विन मनी में नविेश कराकर उससे 8 लाख की ठगी कर ली गई। उसने 2 मई काे मामले की शकिायत हांसी साइबर सेल, पुलिस अधकिारियाें से की थी मगर अभी तक रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई है। वह दस से अधकि चक्कर काट चुका है।

हांसी के एक बिजनेसमैन ने बताया कि साेशल मीडिया पर विन मनी से जुड़े एजेंटाें से उसका संपर्क हुआ। उसने करीब ~15 लाख इन्वेस्ट कर दिए। मगर अब रुपये देने से इनकार किया जा रहा है। रुपये मांगने पर धमकी दी जा रही है। राजस्थान के गंगानगर के एक प्राॅपर्टी डीलर ने बताया कि दाे माह पहले उसका संपर्क विन मनी एप के एजेंट से हुआ। एजेंट के बहकावे में आकर उसने करीब एक लाख 50 हजार रुपए विन मनी पर इनवेस्ट किए। अब उसकी आईडी ब्लाॅक कर आराेपी रुपये देने से इनकार कर रहे हैं।

पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर के बीटेक के एक स्टूडेंट ने बताया कि एक दाेस्त के कहने पर उसने भी विन मनी की दाे आईडी ले ली तथा पचास हजार रुपए इनवेस्ट कर दिए। आईडी काे ब्लाॅक कर दिया है। ऑनलाइन शकिायत की है। गुजरात के माेरबी के प्राइवेट बिजनेसमैन ने बताया कि उसने चार माह पहले ही चार आईडी विन मनी एप पर खरीदी थी। उसे करीब चार लाख की चपत लगा दी गई। हालांकि, शकिायत पर उसे जल्द रुपए वापस देने का भराेसा दिया जा रहा है।

कैथल के एक प्राॅपर्टी डीलर ने बताया कि टेलीग्राम के माध्यम से उसका संपर्क विन मनी के एक सदस्य से हुआ। सदस्य के कहने पर उसने करीब ~50 हजार इनवेस्ट किए। ~40 हजार वापस आ गए मगर 10 हजार वापस नहीं आए हैं। कैथल के स्टूडेंट ने बताया कि उसके दाे माह पूर्व विन मनी एप पर करीब दाे हजार रुपये ठग लिए गए थे। शकिायत की ताे वापस आ गए। महाराष्ट्र के बुलढाणा के एक बिजनेसमैन ने बताया कि टेलीग्राम पर विन मनी के एक एजेंट से संपर्क हुआ। सदस्य ने कहा कि यदि आईडी लेने के बाद खाते में एक लाख रुपये डलवाते हाे ताे राेज ~800 वापस भेजे जायेंगे। दाे लाख रुपये खाते में ट्रांसफर कर दिए। अब उसकी आईडी काे भी ब्लाॅक कर दिया।

तीन लोग पकड़े जा चुके बाकी की तलाश : एसपी

ठगी के शकिार हाेने के बाद भी कुछ लाेग शर्म की वजह से शकिायत नहीं करते हैं। जिसके कारण ठगी करने वालाें के हाैसले बुलंद हाेते हैं। पीड़ित काे संबंधित पुलिस से जरूर शकिायत करनी चाहिए। हिसार के एक बिजनेसमैन ने पुलिस से शकिायत की ताे पुलिस ने निराेह के तीन गुुर्गाें काे पकड़कर सलाखाें के पीछे पहुंचाने में अहम भूमकिा निभाई है। अभी फरार गुर्गाें की तलाश में दबिश दी जा रही है।''-लाेकेंद्र सिंह, एसपी, हिसार।

खबरें और भी हैं...