पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60912.36-0.02 %
  • NIFTY18163.65-0.08 %
  • GOLD(MCX 10 GM)473800.04 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646780.63 %

हिसार टोल पर पंजाब के पूर्व डिप्टी CM का विरोध:सुखबीर बादल की गाड़ी को घेर दिखाए काले झंडे, SAD की मोगा रैली का विरोध करने वाले किसानों पर लाठीचार्ज से थे नाराज

हिसारएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली जा रहे पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम और शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल का वीरवार को हिसार टोल पर किसानों ने विरोध किया। किसानों ने सुखबीर बादल को काफिले को रुकवाकर नारेबाजी की और काले झंडे दिखाए। किसान इस बात से नाराज थे कि 2 सितंबर को पंजाब के मोगा में हुई अकाली दल की रैली में किसानों पर लाठीचार्ज किया गया।

अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल वीरवार दोपहर को अपने काफिले के साथ दिल्ली जा रहे थे। जब उनका काफिला हिसार के रामायण टोल पर पहुंचा तो वहां धरनारत किसानों ने सुखबीर बादल को काफिले को घेर लिया और काले झंडे दिखाते हुए नारेबाजी शुरू कर दी। किसानों ने विरोध करते हुए उस लेन को भी बंद कर दिया, जिससे सुखबीर के काफिले को गुजरना था। रास्ता बंद हो जाने के कारण सुखबीर बादल कई देर तक टोल पर ही फंसे रहे। इस दौरान किसानों ने लगातार नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। इसी हंगामे के बीच उनके साथ चल रही एस्कार्ट की गाड़ियों से जवान उतरे और रास्ता खाली करवाया। जवानों को भी रास्ता खाली करवाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी।

किसान नेता कुलदीप खरड़ ने बताया कि सुखबीर बादल की 2 सितंबर को पंजाब की मोगा में हुई रैली में विरोध कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज किया गया जिसमें कई किसान भाई घायल हुए थे। बादल परिवार एक तरफ तो किसानों के पक्ष में मोदी मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने का ढोंग करता है और दूसरी तरफ पंजाब की कांग्रेस सरकार से किसानों पर लाठीचार्ज करवाता है। इसी बात से नाराज किसानों ने आज सुखबीर बादल का विरोध किया था।​​किसानों के अनुसार जब तक मोगा में किसानों पर हुए लाठीचार्ज पर सुखबीर बादल किसानों से माफी नहीं मांगते हैं तब तक उनका इसी तरह से विरोध किया जाएगा।

पिछली बार गलती से विरोध किया, इस बार कन्फर्म करके

इससे पहले भी एक दिन किसानों ने रामायण टोल पर ही शिअद प्रधान सुखबीर बादल का विरोध किया था। हालांकि सुखबीर बादल को गाड़ी से नीचे उतरते देखकर उसी समय किसानों ने उनसे अफसोस जाहिर कर लिया था। उस समय किसानों ने कहा था कि एस्कॉर्ट गाड़ियां वगैरह देखकर उन्हें लगा कि हरियाणा सरकार का कोई नेता आ रहा है और इसी गलतफहमी में उन्होंने विरोध कर दिया। सुखबीर बादल के नीचे उतरने तक उन्हें पता नहीं था कि यह काफिला उनका है। हालांकि वीरवार को यह बात पूरी तरह कन्फर्म करने कि काफिला सुखबीर बादल का ही है, किसानों ने विरोध किया।

हरियाणा के डिप्टी सीएम और भाजपा नेताओं का कर चुके विरोध

मोदी सरकार की ओर से लाए गए तीन नए खेती कानूनों के खिलाफ दस महीनों से रामायण टोल पर धरना दे रहे किसान यहां हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला, डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा, हरियाणा में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़, विधायक जोगीराम सिहाग, राज्यसभा सांसद रामचंद्र जांगड़ा और भाजपा विधायक कमल गुप्ता का विरोध कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...