पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानो ने हिसार-भादरा मार्ग किया जाम:गिरफ्तारी देने हिसार पहुंचे किसान, रात 11:30 बजे रिहा, मुआवजे की मांग, किसान बोले -गिरफ्तारी हो या आश्वासन दें

बालसमंदएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बालसमंद चौकी से किसानों को पुलिस बसों में हिसार पुलिस लाइन लाई। किसान यहां भी धरने पर बैठे। - Money Bhaskar
बालसमंद चौकी से किसानों को पुलिस बसों में हिसार पुलिस लाइन लाई। किसान यहां भी धरने पर बैठे।

सब तहसील बालसमंद क्षेत्र के लंबित मुआवजे की मांग को लेकर विभिन्न गांव के किसान ट्रैक्टरों के काफिले के साथ सुबह करीब 10 बजे बालसमंद धरना स्थल पर पहुंचे। मौके पर पहुंचे किसानों ने हिसार-भादरा मुख्य मार्ग पर टेंट लगा दिया। किसानों ने बैठक कर निर्णय लिया कि उन्हें कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर आकर लिखित आश्वासन देगा तभी आगामी निर्णय लिया जाएगा। दोपहर करीब 2 बजे तक किसानों के बीच कोई प्रशासनिक अधिकारी न पहुंचने पर किसानों में रोष बढ़ गया और उन्होंने गिरफ्तारियां देने का निर्णय लिया। मौके पर मौजूद किसानों का काफिला गिरफ्तारियां देने के लिए बालसमंद पुलिस चौकी पहुंच गया।

चौकी परिसर में पुलिस के सामने किसान अपनी गिरफ्तारी की मांग पर अड़ गए। किसानों के रोष को देखते हुए पुलिस बसों से किसानों को हिसार लेकर चली गई। किसानों का कहना था कि जब तक उन्हें लंबित मुआवजा राशि नहीं मिलती तब तक वे शांत नहीं बैठेंगे। बालसमंद में दिनभर भारी पुलिस बल मौजूद रहा।

जाम के चलते लिंक रोड से गुजरे वाहन : किसानों की ओर से सब तहसील बालसमंद के गेट पर धरना लगाया हुआ है मगर गुरुवार को हुई बैठक में विभिन्न गांव से भारी संख्या में ट्रैक्टरों के काफिलों के साथ किसान पहुंच गए। किसानों ने मुख्य मार्ग पर टेंट लगा दिया। इस दौरान करीब 7 घंटे तक हिसार-भादरा मुख्य मार्ग बंद रहा। वाहन चालकों को लिंक मार्गों से गुजरना पड़ा।

तीन बसों में वापस बालसमंद भेजा, रात 12:30 बजे पहुंचे

धरना दे रहे किसानों के बीच जब 2 बजे तक कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा तो किसान भड़क गए और करीब 3 बजे बालसमंद पुलिस चौकी में गिरफ्तारियां देने के लिए पहुंच गए। इसके बाद पुलिस बसों के माध्यम से किसानों को हिसार ले आई। हिसार में भी किसान करीब चार घंटे तक इस बात पर अड़े रहे कि या तो उनकी पक्की गिरफ्तारी हो या कोई प्रशासनिक अधिकारी मौके पर आकर उनको पक्का आश्वासन दे। शाम करीब 4 बजे किसानों को पुलिस की ओर से पुलिस लाइन हिसार में बैठा दिया गया।

किसान नेता सतवीर गढ़वाल ने बताया कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी वह घर वापस नहीं जाएंगे। वहीं एसडीएम रात नौ बजे पुलिस लाइन पहुंचे। दर्जनों किसानों की गिरफ्तारी दिखाने के बाद रात 11:30 बजे रिहा कर दिया। इसके बाद 3 बसों में बैठाकर किसानों को बालसमंद भेजा। जहां रात 12: 30 बजे किसान पहुंचे।

खबरें और भी हैं...