पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Haryana
  • Ambala
  • Sewerage Block In Cantt Bus Stand, Passengers Suffering Due To Stench, Dirty Water Accumulating In Front Of Temple And Near Delhi Counter

जिम्मेदारी से भाग रहे अधिकारी:कैंट बस स्टैंड में सीवरेज ब्लाॅक, बदबू से यात्री बेहाल, मंदिर के सामने व दिल्ली वाले काउंटर के पास जमा हो रहा गंदा पानी

अम्बाला7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कैंट बस स्टैंड में सीवरेज ओवरफ्लो की वजह से जमा गंदगी से निकलते यात्री। - Money Bhaskar
कैंट बस स्टैंड में सीवरेज ओवरफ्लो की वजह से जमा गंदगी से निकलते यात्री।

कैंट बस स्टैंड पर सीवरेज ब्लॉक होने से ओवरफ्लो हो चुका है। बस स्टैंड संस्थान के प्रबंधक बीते 15 दिन से जलापूर्ति विभाग के जेई को ब्लॉकेज की वजह से उत्पन्न समस्या की वीडियो व जानकारी सोशल मीडिया के जरिए दे रहे हैं। शुरुआत में जेई को फोन पर शिकायत भी की। लेकिन अब जेई ने फोन उठाना भी बंद कर दिया है।

इसी वजह से सीवरेज का ओवरफ्लो गंदगी बस स्टैंड परिसर में मंदिर के सामने व दिल्ली वाले काउंटर तक फैल चुकी है। इतना ही नहीं यह गंदगी बस स्टैंड परिसर से रेलवे स्टेशन के सामने ओवरब्रिज तक पहुंच चुकी है, जिसे रोडवेज की वजह से अपने सफाई कर्मचारी लगाकर साफ कराया जा रहा है ताकि यात्री परेशान न हो।

जलापूर्ति विभाग व पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन से शिकायत की, सुनवाई नहीं हुई

बस स्टैंड रोडवेज का जरूर है, लेकिन हम मेंटेनस चार्जेंस पीडब्ल्यूडी के पास जमा कराते हैं। इसलिए पीडब्ल्यूडी को सीवरेज को दिक्कत को दूर करना चाहिए। मैं 15 दिन से लगातार जलापूर्ति विभाग के जेई को शिकायत कर रहा हूं, लेकिन शिकायत दूर करने की बजाए जेई ने मेरा फोन तक उठाना बंद कर दिया है। सीवरेज की जो गंदगी है अब यात्रियों को उसी में से होकर निकलना पड़ रहा है, बदबू से यात्री बेहाल हैं। रोडवेज जीएम भी पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से बातचीत कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई ही नहीं हो रही है। मैंने जलापूर्ति विभाग के एक्सईएन व पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के एक्सईएन को फोन पर शिकायत की है। दोनों एक दूसरे पर जिम्मेदारी डाल रहे हैं।-अजीत सिंह, संस्थान प्रबंधक, बस स्टैंड अम्बाला कैंट।

2010 की नोटिफिकेशन के बाद से पीडब्ल्यूडी के पास है

हरियाणा सरकार की 2010 की नोटिफिकेशन के मुताबिक अब मेंटेनस जलापूर्ति विभाग के पास नहीं है। यह मेंटेनस पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के पास चली गई है। इसलिए 2010 के बाद से हम सरकारी बिल्डिंग की आंतरिक मेंटेनस को छोड़कर मुख्य रोड पर सीवरेज की मेंटेनस कर रहे हैं। हमने शनिवार को मुख्य रोड का सीवरेज मशीनों के जरिए खोल दिया था। इस संबंध में रोडवेज जीएम की चिट्टी भी हमारे पास आई थी जिसका जवाब भी नोटिफिकेशन के आधार पर दे दिया है। इसलिए जिम्मेदारी जलापूर्ति विभाग की नहीं बनती। जहां से हमारे कर्मियों ने चेक किया है तो रोडवेज के सीवरेज में ईंटें गिरी हुई हैं, जिसे निकलवाने के बाद ही सीवरेज चलेगा।-अनिल चौहान, एक्सईएन, जलापूर्ति विभाग अम्बाला कैंट।

हमारी मेंटेनेंस बुक में रोडवेज बस स्टैंड की मेंटेनस नहीं है
सरकारी बिल्डिंग की मेंटेनस बुक में रोडवेज बस स्टैंड कैंट की मेंटेनस नहीं है। इसलिए हमारी तरफ से मेंटेनस नहीं की जाती। रोडवेज डिपार्टमेंट को अपने स्तर पर ही सीवरेज की मेंटेनस करानी होगी। हमने रोडवेज के अधिकारियों को बता भी दिया है।-निशांत, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी बीएंडआर, अम्बाला कैंट।

खबरें और भी हैं...