पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Gujarat
  • Surat
  • World Bank Team Came To Surat, But 1991 Crore Loan Was Not Received For The Riverfront, When Will The Municipality Get It?

रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट:वर्ल्ड बैंक की टीम सूरत आई, पर रिवरफ्रंट के लिए 1991 करोड़ लोन नहीं मिला, कब मिलेगा मनपा को पता नहीं

सूरतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तापी रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट का मॉडल - Money Bhaskar
तापी रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट का मॉडल

सूरत महानगर पालिका तापी रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट चार साल में भी साकार नहीं हो पाया है। 3904 करोड़ के इस प्रोजेक्ट के लिए वर्ल्ड बैंक से लोन नहीं मिल पा रहा है। वर्ल्ड बैंक की टीम दो बार सूरत आ चुकी है, लेकिन अभी तक लोन के लिए हामी नहीं भरी। वर्ल्ड बैंक अभी आश्वासन ही दे रहा है। वर्ल्ड बैंक से 1991 करोड़ रुपए का लोन चाहिए, लेकिन किसी को नहीं पता कि ये कब मिलेगा। अधिकारी का कहना है कि जब लोन मिलेगा तभी प्रोजेक्ट शुरू हो पाएगा। वर्ल्ड बैंक की टीम 9 से 14 मई तक सूरत में ही थी। वर्ल्ड बैंक से लोन लेने की बात 8 महीने से चल रही है, लेकिन वह अब तक संभावना ही तलाश रहा है।

मनपा की ओर से मेयर, डिप्टी मेयर, स्थाई समिति के अध्यक्ष और कमिश्नर और वर्ल्ड बैंक की टीम के सामने प्रोजेक्ट का प्रजेंटेशन दिया गया। इसमें तापी रिवरफ्रंट कॉर्पोरेशन की रचना और प्रकल्प संबंधित आगे के काम को लेकर जानकारी दी गई। इस बैठक में भी वर्ल्ड बैंक की टीम ने प्रोजेक्ट में पूरा सहयोग देने की बात कही, लेकिन लोन कब देंगे यह नहीं बताया। 20 अक्टूबर 2020 में तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने महत्वपूर्ण परियोजनाओं जैसे मेट्रो रेल, रिवरफ्रंट, तापी शुद्धिकरण, ड्रीम सिटी, डायमंड सिटी को आगे बढ़ाने के लिए तेजी से काम करने को कहा था।

अधिकारी बोले- लोन मिलेगा तो ही रिवरफ्रंट का काम शुरू हो पाएगा, पर लोन कब मिलेगा नहीं पता

रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट की डिटेल

  • 3904 करोड़ रुपए है प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत
  • 1991 करोड़ रुपए का लोन वर्ल्ड बैंक से लेना है
  • 33 किलोमीटर के क्षेत्र में साकार होगा रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट
  • पहले चरण में ओएनजीसी ब्रिज से वियर कम कॉजवे तक 10 किमी का काम होगा
  • दूसरे चरण में वियर काम कॉजवे से कठोर ब्रिज तक 23 किमी का काम होगा

33 किमी क्षेत्र में तापी नदी के दोनों किनारों पर बनेगा रिवरफ्रंट
सूरत महानगर पालिका ने सिंगणपुर वियर से ओएनजीसी ब्रिज तक 10 किमी और सिंगणपुर वियर से कठोर ब्रिज तक 23 किमी क्षेत्र में तापी नदी के दोनों किनारों पर रिवरफ्रंट विकसित करने की तैयारी की है। तापी रिवरफ्रंट योजना को आगे बढ़ाने को स्पेशल पर्पज व्हीकल कंपनी (एसवीपी) बनाई गई है। 24 दिसंबर 2018 में हर्ष संघवी ने राजस्व मंत्री कौशिक पटेल के सामने कहा था कि रिवरफ्रंट अहमदाबाद में बन सकता है तो सूरत में क्यों नहीं। कई बैठकों के बाद भी अब तक कुछ नहीं हुआ।

बजट में 239 करोड़ रुपए की घोषणा
एसपीवी के लिए 10 करोड़ की पैडअप कैपिटल में 5 करोड़ राज्य सरकार और 5 करोड़ मनपा के होंगे। मनपा बजट में रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट के लिए 239 करोड़ रुपए की घोषणा भी की गई है। पिछले 4 साल से इस प्रोजेक्ट के लिए घोषणा की जाती रही है, लेकिन प्रोजेक्ट अभी तक कागज पर ही है। इस साल भी प्रोजेक्ट शुरू होना संभव नहीं।

दो चरणों में किया जाना है तापी रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट का काम
मनपा आयुक्त बंछानिधि पाणी ने 22 जनवरी 2021 में कहा था कि तापी नदी पर कन्वेंशनल बैराज बनाने के लिए निविदाएं फिर से आमंत्रित की गई हैं। इस प्रोजेक्ट में विशाल जल सरोवर बनाया जाएगा। इससे पानी को रोक कर 33 किमी क्षेत्र में रिवरफ्रंट डेवलप किया जाएगा। फेज-1 में 1236 करोड़ और फेज-2 में 2668 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इस तरह परियोजना की कुल अनुमानित लागत 3904 करोड़ रुपए है। राज्य सरकार ने मनपा के इस प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है।​​​​​​​

मुख्यमंत्री ने 6 माह पहले एसवीपी बनाने का लिया था निर्णय
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने सूरत महानगर पालिका के रिवरफ्रंट डेवलपमेंट प्रोजेक्ट लिए एक स्पेशल पर्पज व्हीकल (एसपीवी) के तौर पर तापी रिवरफ्रंट डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड बनाने का निर्णय 26 नवंबर 2021 को लिया था। मुख्यमंत्री ने एसपीवी का चेयरमैन मनपा आयुक्त को बनाने का निर्णय लिया है। इस एसपीवी में 9 शेयर होल्डर्स में से तीन अधिकारी राज्य सरकार द्वारा नामांकित किए जाएंगे।

रिवरफ्रंट से जल व भूमि के प्रबंधन की भी है योजना
झील के दोनों किनारों पर लोगों के मनोरंजन, पर्यटन और परिवहन के लिए सुविधाएं चरणबद्ध तरीके से विकसित की जाएंगी। नदी के किनारे हरे-भरे और मनोरंजन क्षेत्रों का विकास होगा। पानी और भूमि का प्रबंधन होगा। संभावित बाढ़ से सुरक्षा मिलेगी। नदी स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त होगी। नदी के दोनों किनारों पर अतिरिक्त सड़कें उपलब्ध होंगी। नौका विहार और वाटर गेम्स की भी सुविधा होगी।

रुंढ-भाठा से सिंगणपुर तक वॉक-वे बनेगा
सूरत मनपा के मुताबिक रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट के फेज-2 में सिंगणपोर वियर से कठोर तक गार्डन-फ्लड कंजर्वेशन बनेगा। सिंगणपुर वियर से कठोर पुल तक नदी के दोनों किनारों पर वॉक-वे, साइकिल ट्रैक, ग्रीन स्पेस, ओवरपास, गार्ड, सार्वजनिक स्थल व अन्य सुविधाओं और बाढ़ सुरक्षा लाइनों का नवीनीकरण किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के लिए वर्ल्ड बैंक से 1991 करोड़ का लोन लेना है।

कोविड के कारण वर्ल्ड बैंक को सूरत आने में हुई देरी

कोविड के कारण अब तक वर्ल्ड बैंक के प्रमुख प्रतिनिधि सूरत नहीं आ पाए थे। पिछले सप्ताह पहली बार वर्ल्ड बैंक की प्रमुख टीम ने सूरत का दौरा किया। रिवरफ्रंट के लिए कब लोन पारित करेंगे वह पता नहीं। लोन मिलने के बाद ही प्रोजेक्ट शुरू हो पाएगा। -आशीष दुबे, सिटी इंजीनियर, मनपा

खबरें और भी हैं...