पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57491.51-2.62 %
  • NIFTY17149.1-2.66 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486500.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64467-0.29 %
  • Business News
  • Local
  • Gujarat
  • Said Surat Traders Are Not The Only Stake Holders, Cotton People Do Not Object; This Problem Will Be Solved By The Government

राज्यमंत्री दर्शना के जीएसटी दर न घटाने के संकेत:बोलीं- सूरत के व्यापारी ही स्टेक होल्डर नहीं, कॉटन वालों को आपत्ति नहीं; समस्या यही सरकार दूर करेगी

सूरत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कपड़ा राज्यमंत्री दर्शना ने यार्न एक्स्पो का किया शुभारंभ - Money Bhaskar
कपड़ा राज्यमंत्री दर्शना ने यार्न एक्स्पो का किया शुभारंभ

सूरत के कपड़ा व्यापारियों को एक बार फिर कपड़ा राज्यमंत्री दर्शना जरदोष की खरी-खरी सुनने को मिली। कपड़ा उद्योग पर इन्वर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर हटाकर सभी स्तर पर 12 प्रतिशत करने के मुद्दे पर कपड़ा व्यापारियों को रविवार को यार्न एक्सपो कार्यक्रम में दर्शना जरदोष से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन उन्होंने दो टूक कह दिया कि सूरत के कपड़ा व्यापारी ही नहीं कपड़ा उद्योग के स्टेक होल्डर नहीं हैं, अन्य राज्यों के व्यापारियों से भी चर्चा की गई है। काॅटन उद्यमियों से चर्चा कर 12 प्रतिशत दर का निर्णय लिया गया है।

मंत्री ने सीधे-सीधे तो नहीं कहा कि यह दर फाइनल है, लेकिन इसके नहीं बदलने के संकेत दे दिए। इससे कपड़ा व्यापारियों को काफी निराशा हुई है। विवर्स को कपड़ा राज्यमंत्री चैंबर ऑफ कॉमर्स की ओर से सरसाणा कन्वेंशन सेंटर में आयोजित यार्न एग्जिबिशन के उद्घाटन अवसर पर उद्यमियों को संबोधित कर रही थीं। इस दाैरान उन्होंने कहा कि कपड़ा उद्योग पर जीएसटी की दरें कपड़ा उद्यमियों से चर्चा कर बढ़ाई गई है।

माना जा रहा है कि कपड़ा मंत्री ने इशारे में कह दिया है कि अब जीएसटी की दरों में परिवर्तन मुश्किल है। यह पहला माैका नहीं है जब दर्शना ने व्यापारियों को दो टूक सुनाई है। इससे पहले जब वे केंद्र में मंत्री बनकर सूरत आई थीं तो 19 अगस्त 2021 को एक समारोह में व्यापारियों हर जगह मांग लेकर पहुंच जाना ठीक बात नहीं है। समारोह में मांगों का बोझ मत डालिए।

वित्त मंत्री के साथ मीटिंग में काॅटन इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी थे
कपड़ा राज्यमंत्री दर्शना जरदोष ने कहा कि कपड़ा उद्योग में जीएसटी दर 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 12 प्रतिशत करने से पहले वित्तमंत्री के साथ मिलकर उन्होंने कपड़ा उद्योग के स्टेक होल्डर्स के साथ मीटिंग की थी। मीटिंग में कॉटन इंडस्ट्री से जुड़े लोग भी उपस्थित थे। सभी के विचार जानने के बाद जीएसटी की दर बदली गई है। दरअसल सूरत के कपड़ा उद्यमी जीएसटी की दरों के लेकर विरोध कर रहे हैं। उनका आरोप है कि दर 12 प्रतिशत करने के लिए सूरत के उद्यमियों के विचार नहीं जाने गए। जीएसटी की दर बढ़ने से सूरत का कपड़ा उद्योग बुरी तरह प्रभावित होगा।

सरकार से मांग करें तो व्यापारी डेटा भी दें: कपड़ा आयुक्त
दर्शना ने कपड़ा उद्यमियों से कहा कि अभी भी बातचीत जारी है। सरकार इस समस्या का जल्दी ही निराकरण करेगी। इसके पहले टफ योजना की पेंडिंग सब्सिडी के लिए भी मंत्रालय ने पुराने रिकॉर्ड खंगाले और तमाम अर्जियों पर काम किया। नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि कपड़ा उद्यमी कभी इधर तो कभी उधर इस बारे में गुहार लगा रहे हैं, लेकिन समस्या यही सरकार दूर करेगी। कपड़ा रूपराशि ने कपड़ा उद्यमियों से कहा कि अगर आप सरकार से किसी तरह की मांग करते हैं तो उससे पहले आपको उससे संबंधित डेटा भी देना चाहिए।

नायलॉन व विस्कोस यार्न का 90 प्रतिशत उपयोग सूरत में
चैंबर के प्रमुख आशीष गुजराती ने कहा कि सूरत के कपड़ा उद्योग का विकास पॉलिएस्टर यार्न के कारण हुआ है। चीन के बाद मॉर्डन विविंग इंडस्ट्री में सूरत दूसरे नंबर पर है। भारत में हर साल 19 लाख मैट्रिक टन पॉलिएस्टर यार्न बनता है। नायलॉन और विस्कोस यार्न का 90 प्रतिशत उपयोग सूरत में होता है।
यार्न एग्जिबिशन से सूरत के उद्योग को लाभ होगा। इस अवसर पर उपस्थित मनपा के स्थायी समिति के चेयरमैन परेश पटेल ने कहा कि सूरत के उद्यमियों ने कुछ वर्षों पहले विचित्रा नाम का यार्न बनाया। इस यार्न से बनने वाले फेब्रिक की कीमत 20 रुपए है। प्रतिदिन 10 करोड़ रुपए का कारोबार है। इस यार्न से सालभर में 730 करोड़ रुपए का कारोबार होता है। इस यार्न के लिए चैंबर का बड़ा योगदान रहा है।

75 से अधिक यार्न उत्पादकों के स्टाल
चैंबर की ओर से सरसाणा के इंटरनेशनल एग्जिबिशन एंड कन्वेंशन सेंटर में आयोजित तीन दिवसीय यार्न एग्जिबिशन रविवार से शुरू हो गया। केंद्रीय कपड़ा राज्यमंत्री दर्शना जरदोष ने इसका शुभारंभ किया। एग्जिबिशन में सूरत सहित देशभर के 75 से अधिक यार्न उत्पादकों के स्टॉल लगे हैं। 10500 वर्गमीटर में आयोजित एग्जिबिशन में 15 हजार से अधिक विजिटर्स के आने की उम्मीद जताई जा रही है।

केले-पपीते निर्मित यार्न बने आकर्षण
यार्न एग्जिबिशन में 75 से अधिक स्टॉल हैं। केले, पपीते तथा बांस से बने यार्न विवर्स को अपनी ओर खींच रहे हैं। एग्जिबिशन में टेनसेल लक्स यार्न, बनाना यार्न, बंबू यार्न, प्लास्टिक की बोटल से बने रिसायकल यार्न, एंटीमाक्रोबियल यार्न, विस्कोस फिलामेंट यार्न, नायलोन रिसाइकल यार्न, विस्कोस स्पन यार्न, पॉलिएस्टर स्पन यार्न, डाइंग एंट फैंसी यार्न तथा काॅटन नेचुरल यार्न के स्टॉल लगे हैं।

खबरें और भी हैं...