पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

जगदलपुर से आई 50 हजार सीरिंज:जहां 10 लोग, वहां घर में ही टीका; टीके के लिए फिर भीड़, दिन में 30 हजार लगे तो सीरिंज खत्म, इमरजेंसी में मंगवाए

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी में गणेशोत्सव के दौरान एक अलग ट्रेंड यह रहा कि वैक्सीनेशन सेंटरों में एक बार फिर लोगों की भीड़ उमड़ गई। हालात ये थे कि शनिवार को एक ही दिन में शहर के सेंटरों में 30 हजार से ज्यादा टीके लग गए। भारी संख्या में चल रहे टीकाकरण की वजह से शहर में शनिवार शाम तक कोरोना वैक्सीन के लिए इस्तेमाल होने वाली 0.5 मिमी की डिस्पोजेबल सीरिंज ही खत्म हो गई। नौबत यहां तक आई कि इमरजेंसी में जगदलपुर से 50 हजार सीरिंज मंगवानी पड़ीं, क्योंकि कोरोना का वैक्सीनेशन पुश लाॅक वाली एडी-सीरिंज से ही हो सकता है।

रविवार को अधिकांश प्रतिमाओं का विसर्जन हो गया, इसलिए माना जा रहा है कि सोमवार से अगले एक हफ्ते तक रायपुर में टीकाकरण की रफ्तार और अधिक हो सकती है।रायपुर में गणेशोत्वस के दौरान यानी पिछले हफ्ते सोमवार से शनिवार तक टीके लगवाने वालों की तादाद रोज बढ़ी और शनिवार को रिकार्ड टीकाकरण हुअा। इसलिए सीरिंज खत्म हो गई। सीरिंज की कमी कई बार हुई, लेकिन पहली बार ऐसा हुआ कि दूसरे जिले से इमरजेंसी में टीके मंगवाने पड़े। रायपुर में अब कोरोना टीके का पहला डोज लगवाने वालों की तादाद टारगेट 17.52 लाख के करीब पहुंच रही है। इस हफ्ते में अगर 2 लाख टीके लग गए तो रायपुर में सिंगल डोज का 100 प्रतिशत इसी हफ्ते पूरा हो सकता है। अभी राजधानी समेत पूरे जिले में 15 लाख से अधिक लोगों को पहला टीका लग चुका है। लक्ष्य के मुकाबले अब करीब 2 लाख करीब का ही अंतर रह गया है।

गलियों और घरों में टीके रात 10 बजे तक लगेंगे
राजधानी में टीके के लक्ष्य को जल्दी से जल्दी हासिल करने के लिए ज्यादा सहूलियतें दी जाएंगी। अब शहर में ऐसा कोई भी इलाका या ऐसा परिवार जहां टीका लगवाने वाले 10 या ज्यादा लोग होंगे, वहां टीम बाइक से जाकर टीके लगा देगी। टीमें रात 10 बजे तक घरों में जाकर टीकें लगाएंगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि बहुत से लोग दिन में कामकाज में व्यस्त होने की वजह से टीका लगवाने सेंटर तक नहीं पहुंच पाते हैं। इसलिए शहर में बाइक के रूट बनाए गए हैं। इसके लिए एक मोबाइल एप भी बनाया जा रहा है। जिसमें रजिस्ट्रेशन करने पर टीम घर पर आकर टीके लगा देगी। ग्रामीण इलाकों में ऐसे बुजुर्ग जो चल फिर नहीं पा रहे उनको भी घर जाकर टीके लगाए जा रहे हैं।

आंकड़ों में वैक्सीनेशन

  • पहला डोज अब तक 85.75%
  • दूसरा डोज अब तक 35.03%

75 हजार टीके मिले राजधानी को बीते हफ्ते
राजधानी को पिछले हफ्ते आई 12 लाख वैक्सीन की सप्लाई में से 75 हजार टीके मिले हैं। जिसमें 60 हजार डोज कोविशील्ड और कोवैक्सीन के 15 हजार से अधिक डोज हैं। मिली जानकारी के मुताबिक रायपुर को इस हफ्ते भी जरूरत के मुताबिक और टीके मिल जाएंगे, क्योंकि टीके का भरपूर स्टॉक आया है। राजधानी में दूसरे डोज की रफ्तार भी अन्य जिलों से बेहतर चल रही है। जिले में अब तक 17.52 लाख के लक्ष्य के मुकाबले 6 लाख से अधिक लोगों को दोनों डोज लग चुके हैं। जानकारों के मुताबिक रायपुर को अब सबसे पहले पहले डोज को सौ फीसदी करने पर फोकस करना चाहिए। प्रदेश में इस हफ्ते 35 लाख की सप्लाई में से बचे हुए टीके आने की उम्मीद जताई जा रही है।

सीरिंज या टीके कम होते हैं तो बाहर से मंगवा लेते हैं। इस बार ज्यादा टीकाकरण हुआ, इसलिए दूसरे जिले से ज्यादा सीरिंज मंगवाई। इसके अलावा शहर में टीकाकरण के लिए और सुविधाएं दी जा रही हैं।
-डॉ. मीरा बघेल, सीएमओ, रायपुर

खबरें और भी हैं...