पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंबिकापुर में मूसलाधार बारिश:सीजन में पहली बार इतनी तेज बरसात हुई, अभी दक्षिण छत्तीसगढ़ में बरसात का योग

रायपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शनिवार को अंबिकापुर में मूसलाधार बरसात से कुछ निचले इलाकों में जलजमाव की भी स्थिति बनी। - Money Bhaskar
शनिवार को अंबिकापुर में मूसलाधार बरसात से कुछ निचले इलाकों में जलजमाव की भी स्थिति बनी।

छत्तीसगढ़ में मानसून सक्रिय है, लेकिन बरसात अभी भी असमान है। मध्य छत्तीसगढ़ के अधिकतर हिस्सों में बहुत कम बरसात हो रही है। अंबिकापुर में शनिवार को कुछ देर की मूसलाधार बरसात में वहां 45.8 मिलीमीटर बरसात दर्ज हुई है। इसे सीजन की सबसे तेज बरसात बताया जा रहा है। अब दक्षिण छत्तीसगढ़ के अधिकांश जिलों में अच्छी बरसात होने की संभावना बन रही है।

मौसम विभाग के मुताबिक प्रदेश के ओड़गी, पुसौर, रायगढ़, करतला, मैनपुर, घरघोड़ा, राजनांदगांव, भैयाथान, तमनार में पांच से नौ सेंटीमीटर तक की बरसात रिकॉर्ड की गई। कटघोरा, पाली, भैरमगढ़, केशकाल, जांजगीर, बीजापुर, डोंगरगांव, नगरी, लोरमी, भोपालपट्‌टनम, पौड़ी उपरोड़ा, पथरिया, बस्तानार, तोकापाल, डोंगरगढ़, वाड्रफनगर, गीदम, लैलुंगा में तीन सेंटीमीटर तक की बरसात दर्ज हुई है। बिलासपुर, देवभोग, नारायणपुर, लखनपुर, बस्तर, खरसिया, गंडई, फरसगांव, सारंगढ़, सक्ती, पेण्ड्रा, अंबागढ़ चौकी, धमधा, कांकेर, चांपा, सुकमा, सहसपुर-लोहारा, गुंडरदेही, माकड़ी, मालखरोदा और कोरबा में दो सेंटीमीटर तक बरसात हुई है। गुरुवार-शुक्रवार की रात में राजनांदगांव में 54.4 मिलीमीटर की बरसात हुई है। अंबिकापुर में 28.6 और बिलासपुर में भी 24.2 मिलीमीटर पानी बरसा है। मौसम विभाग के मुताबिक, 18 डिग्री उत्तरी अक्षांस पर अभी एक विंडशियर जोन 3.1 किलोमीटर से 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके प्रभाव से चरम दक्षिण छत्तीसगढ़ में अधिकांश स्थानों पर वर्षा होने की प्रबल संभावना है।

मौसमी तंत्र सक्रिय, कल भी बरसात हाेगी

मौसम विभाग के मुताबिक एक पूर्व-पश्चिम द्रोणिका पश्चिम राजस्थान से गंगेटिक पश्चिम बंगाल तक 0.9 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा उत्तर अंदरूनी उड़ीसा और उसके आसपास 4.5 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है।प्रदेश में 26 जून को अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने तथा भारी वर्षा होने की भी संभावना है।