पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59005.270.88 %
  • NIFTY175620.95 %
  • GOLD(MCX 10 GM)463320.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)602350.53 %

छग में 12वीं के 98% स्टूडेंट्स पास:ज्यादातर छात्र CBSE के फार्मूले से संतुष्ट, रायपुर की छात्रा दिवा ने हासिल किए 98 फीसदी से ज्यादा अंक

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने शुक्रवार को 12वीं बोर्ड का रिजल्ट जारी कर दिया है।(फाइल) - Money Bhaskar
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने शुक्रवार को 12वीं बोर्ड का रिजल्ट जारी कर दिया है।(फाइल)

12वीं बोर्ड के रिजल्ट सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने शुक्रवार दोपहर जारी कर दिए। छत्तीसगढ़ से इस परीक्षा में करीब 10 लाख छात्र-छात्राओं ने भाग लिया था। प्रदेश के 98 प्रतिशत से ज्यादा छात्र-छात्राएं 12वीं की परीक्षा में सफल हुए हैं। इस बार भी ज्यादा अंकों की रेस में छात्राओं ने बाजी मारी है। रायपुर जिले की टॉपर दिवा जयवार को 98.4 फीसदी अंक मिले हैं। अधिकांश छात्र-छात्राएं सीबीएसई के रिजल्ट निकाले जाने के फाॅर्मूले से संतुष्ट हैं। इस साल कोरोना के कारण फिजिकली एग्जाम ना लेते हुए CBSE ने 30-30-40 फाॅर्मूले के तहत रिजल्ट घोषित किए हैं।

दिवा जयवार को 98.4 फीसदी अंक मिले हैं।
दिवा जयवार को 98.4 फीसदी अंक मिले हैं।

नहीं हुई कोई तकनीकी परेशानी
हर साल बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट जारी होते ही ऑनलाइन साइट नहीं खुलने, साइट क्रैश होने जैसी समस्याएं आती हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं देखा गया। दोपहर 2 बजे बोर्ड ने रिजल्ट जारी किए और यहां सभी छात्र-छात्राओं ने अपने मोबाइल, कंप्यूटर पर साइट खोल ली। उनका रिजल्ट भी उन्हें आसानी से सिर्फ रोल नंबर और स्कूल कोड डालने से दिख गया। प्रदेश में कहीं से भी रिजल्ट देखने में परेशानी की बात सामने नहीं आई। CBSE ने एक लिंक स्कूलों के अलग-अलग रिजल्ट की भी दी थी। जिससे स्कूलवार रिजल्ट भी मिल गए।

बहुत कम छात्र ही देंगे कंपार्टमेंट
टॉपर्स से लेकर अन्य छात्र-छात्राओं में इस रिजल्ट प्रोसेस को लेकर बहुत असंतोष नहीं दिख रहा है। CBSE ने व्यवस्था की है कि यदि कोई छात्र 30-30-40 के इस फार्मूले के तहत दिए गए अंकों से संतुष्ट नहीं है तो वह कंपार्टमेंट के तहत परीक्षा के लिए आवेदन कर सकता है। उस छात्र की अलग से परीक्षा ली जाएगी और उसके आधार पर नंबर दिए जाएंगे। भास्कर ने कई छात्र-छात्राओं से इस संबंध में बात की। सभी ने कहा कि वो मौजूदा प्रोसेस से संतुष्ट हैं। जिन्हें ज्यादा मार्क्स मिलने की उम्मीद थी उन्होंने भी कहा कि हम अलग से परीक्षा देना नहीं चाहते।

KPS स्कूल में पढ़ने वाली मंशा कोचर को 97.6 अंक मिले हैं।
KPS स्कूल में पढ़ने वाली मंशा कोचर को 97.6 अंक मिले हैं।

टॉपर्स कहते हैं कि ‘अब आगे देखना चाहते हैं’
KPS डुंडा में पढ़ने वाली दिवा जयवार ने कक्षा-12वीं में 98.4 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। उन्होंने रायपुर जिले और KPS स्कूल में पहला स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया कि वे अपने रिजल्ट को लेकर काफी खुश हैं। वो रोज एक टाइम टेबल और टीचर्स के दिए गए टिप्स के अनुसार पढ़ाई करती थीं। जिसके कारण उन्हें सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि CBSE ने छात्रों के मूल्यांकन के लिए जो फॉर्मूला तय किया था उससे वो पूरी तरह संतुष्ट हैं। आगे चलकर दिवा इंजीनियर बनना चाहती हैं। इसके लिए उन्होंने JEE का एक्जाम दिया है और आगे JEE एडवांस के लिए तैयारी कर रही हैं। KPS स्कूल में दूसरे स्थान पर अनुराग गांगुली रहे हैं। अनुराग को 98.2 प्रतिशत अंक मिले हैं। जबकि तीसरे स्थान पर देव बनर्जी, मंशा कोचर और प्राची कनकारिया रहे हैं। तीन छात्रों को 97.6 अंक मिले हैं।

प्राची कनकारिया
प्राची कनकारिया

कोई इंजीनियर तो कोई बनना चाहता है CA
KPS स्कूल में 97.6 परसेंट हासिल कर तीसरा स्थान प्राप्त करने वाले देव मुखर्जी ने बताया कि वो भी आगे चलकर इंजीनियर बनना चाहते हैं। देव ने कृष्णा पब्लिक स्कूल डुंडा में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। उन्होंने इस साल JEE का एग्जाम भी दिया था। उनके मुताबिक जिस फॉर्मूला से रिजल्ट जारी कए गए हैं। वो बिल्कुल ठीक है और वे पूरी तरह से संतुष्ट हैं। प्राची कनकारिया ने भी 12वीं में 97.6 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। प्राची भविष्य में CA बनना चाहती हैं। उन्होंने इसके लिए काफी समय पहले से तैयारी शुरू कर दी है। प्राची ने कहा कि वो अपने रिजल्ट को लेकर खुश हैं।

देव मुखर्जी आगे चलकर इंजीनियर बनना चाहते हैं।
देव मुखर्जी आगे चलकर इंजीनियर बनना चाहते हैं।

याद करने से ज्यादा बेहतर विषय को समझना

डीपीएस स्कूल की टॉपर जूही जैन को 97.8 फीसदी अंक मिले हैं। जूही कॉमर्स की छात्रा हैं और उनका कहना है कि CBSE ने जो फार्मूला तय किया है उसके मुताबिक रिजल्ट ठीक है। जूही देहली यूनिवर्सिटी में आगे की पढ़ाई की अप्लाई करेंगी और साथ ही सीए की तैयारी भी करेंगी। उन्होंने अपनी स्टडी पैटर्न के बारे में कहा कि वे सभी सब्जैक्ट पर एक जैसा ही फोकस करती थीं। उनका कहना है कि याद करने से ज्यादा बेहतर विषय को समझना होता है।

जूही जैन
जूही जैन

इसी स्कूल की वंशिका अग्रवाल को 97 फीसदी अंक मिले हैं। वह भी कॉमर्स की छात्रा हैं। उन्होंने भी रिजल्ट के इस फार्मूले पर सहमति जताई। वंशिका भी दिल्ली-कोलकाता के कॉलेज से ग्रेजुएशन करना चाहती है। वो मैनेजमेंट और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में करियर बनाना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि सफलता के लिए मेहनत के अलावा और कोई रास्ता नहीं है।

तान्या अग्रवाल को 12वीं में 96.8 प्रतिशत अंक मिले हैं।
तान्या अग्रवाल को 12वीं में 96.8 प्रतिशत अंक मिले हैं।

डीपीएस की तान्या अग्रवाल को 96.8 प्रतिशत प्राप्त हुआ है। तान्या आगे चलकर अर्थशास्त्र या स्टैटिक्स में पढ़ाई करना चाहती हैं। इस पढ़ाई की जरिए उनकी मंशा एक्च्यूरी(ACTUARY) बनने की है। तान्या ने बताया कि वो ‌आगे इंश्योरेंस सेक्टर में काम करने की इच्छा रखती हैं।एक्च्यूरी इंश्योरेंस सेक्टर में रिस्क का विशलेषण करके पॉलिसी तैयार करते हैं।