पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

छत्तीसगढ़ के कई जिलों से रूठे बादल:प्रदेश में अब तक औसत से 25% कम बरसात हुई, चार जिलों की कमी 70% तक

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ में जून बीतने को है, लेकिन कुछ जिलों को छोड़कर अच्छी बरसात कहीं नहीं हुई। एक जून से 25 जून तक प्रदेश में केवल औसतन 112 मिलीमीटर बरसात हुई है। यह सामान्य बरसात से 25% तक कम है। रायपुर, जशपुर, सरगुजा ओर बलरामपुर जैसे जिलों की स्थिति और खराब है। यहां सामान्य से 60-70% कम पानी बरसा है। इसकी वजह से यहां खेतों में भी ठीक से नमी नहीं हो पाई है।

मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, एक जून से 25 जून तक सामान्य तौर पर प्रदेश में 149.6 मिलीमीटर बरसात होती है। इस साल मानसून सामान्य समय पर आया। लेकिन प्री-मानसून में कम बरसात हुई। मानसून सक्रिय होने के बाद भी रायपुर, दुर्ग, जशपुर, सरगुजा और बलरामपुर जैसे जिलों में कम पानी बरसा। परिणाम यह हुआ कि अब तक औसत 112 मिलीमीटर बरसात ही हो पाई है। यह सामान्य से 25% कम है।

जशपुर में सबसे कम बरसात हुई है। यहां औसतन 196.6 मिमी बरसात होती है। लेकिन अब तक वहां 58.5 मिमी पानी ही गिरा है। यह सामान्य से 70% तक कम है। बलरामपुर में 149.3 मिमी के मुकाबले 59.6 मिमी बरसात हुई है वहीं सरगुजा में 179.8 मिमी के मुकाबले केवल 71.1 मिमी पानी गिरा है। दोनों जिलों की औसत बरसात सामान्य से 60% कम है। रायपुर जिले का भी कमोबेस यही हाल है। सामान्य तौर पर यहां 134.8 मिमी औसत बरसात होती है। अभी तक यहां केवल 55.3 मिमी बरसात हो पाई है। यह सामान्य से 59% कम है। उम्मीद जताई जा रही है कि अगले कुछ दिनों में स्थितियां अनुकूल होंगी और इन जिलों में पानी की कमी कुछ हद तक दूर हो जाएगी।

पिछले दिनों हुई बारिश से ऐसा नजारा था। मगर कई जिलों में अच्छी बारिश इस बार नहीं हुई है।
पिछले दिनों हुई बारिश से ऐसा नजारा था। मगर कई जिलों में अच्छी बारिश इस बार नहीं हुई है।

कबीरधाम, मुंगेली, बिलासपुर में अधिक पानी

इस सीजन में सबसे अच्छी बरसात कबीरधाम जिले में रिकॉर्ड हुई है। सामान्य तौर पर वहां 107.1 मिमी औसत बरसात होती है। इस बार अब तक वहां 159.2 मिमी बरसात हो चुकी है। यानी सामान्य से 49% अधिक पानी बरस चुका। मुंगेली में सामान्य से 42% अधिक पानी गिरा है। वहां सामान्य वर्षा 113.5 मिमी है और अब तक 161.7 मिमी बरसात हो चुकी है। बिलासपुर-जांजगीर-चांपा में 27-27% और कोरबा में 24 % अधिक पानी बरसा है।

रविवार सुबह तक प्रदेश के ऐसे थे हालात

शनिवार सुबह 8.30 बजे से रविवार सुबह 8.30 बजे के बीच प्रदेश के अधिकतर जिलों में अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम स्तर की बरसात हुई है। गरियाबंद में सबसे अधिक 23.4 मिमी और दुर्ग, मुंगेली, बेमेतरा और रायपुर में सबसे कम बरसात दर्ज हुई। दुर्ग-मुंगेली में तो पानी ही नहीं बरसा। रायपुर में 1.2 मिमी बरसात दर्ज हुई। बलरामपुर में कुछ स्थानों पर वर्षा हुई। वहीं रायपुर, कांकेर, कबीरधाम, बिलासपुर, सूरजपुर, सरगुजा और जशपुर में अनेक स्थानों पर पानी गिरा। शेष जिलों के अधिकांश हिस्सो में कम-अधिक बरसात हुई है।

अभी भी बरसात का सिस्टम सक्रिय

मौसम विभाग के मुताबिक, एक पूर्व-पश्चिम द्रोणिका उत्तर-पश्चिम राजस्थान से पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी तक 1.5 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा दक्षिण छत्तीसगढ़ के ऊपर 1.5 किलोमीटर से 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। एक और द्रोणिका दक्षिण छत्तीसगढ़ से पूर्व-मध्य अरब सागर तक 3.1 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके प्रभाव से 27 जून को भी प्रदेश के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छीटें पड़ने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ आकाशीय बिजली भी गिर सकती है। भारी बरसात का भी योग है।

खबरें और भी हैं...