पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58649.681.76 %
  • NIFTY17469.751.71 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479790.62 %
  • SILVER(MCX 1 KG)612240.48 %

टाउन प्लानिंग ने शुरू की जांच:साल के बीच शराब दुकान चुपचाप हटाकर प्लाटिंग की

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रहस्यमयी तरीके से फाफाडीह शराब दुकान हटाकर शुरू की गई प्लाटिंग पर टाउन प्लानिंग विभाग ने जांच बैठा दी है। - Money Bhaskar
रहस्यमयी तरीके से फाफाडीह शराब दुकान हटाकर शुरू की गई प्लाटिंग पर टाउन प्लानिंग विभाग ने जांच बैठा दी है।

साल के बीच रहस्यमयी तरीके से फाफाडीह शराब दुकान हटाकर शुरू की गई प्लाटिंग पर टाउन प्लानिंग विभाग ने जांच बैठा दी है। टाउन प्लानिंग के ज्वाइंट डायरेक्टर ने बताया कि विभाग पूरी जमीन के दस्तावेज निकाल रहा है। उसके बाद प्लाट मालिकों से प्लाटिंग को लेकर जानकारी ली जाएगी। इधर, मामले का खुलासा होने के बाद फाफाडीह की इस बेशकीमती जमीन से जुड़े लोगों ने समतलीकरण का काम रुकवा दिया है और गेट पर ताला भी जड़ दिया गया है।

टाउन प्लानिंग महकमा पूरा ब्योरा निकाल रहा है कि जिस प्लाट से बीच सत्र में शराब दुकान हटाई गई और कथित तौर पर प्लाटिंग के मैसेज मोबाइल पर चलाए जाने लगे, वह किसकी थी? उसने जमीन किसे बेची, खरीदनेवाले ने प्लाटिंग या निर्माण के लिए कहीं आवेदन किया या नहीं और प्लाटिंग के लिए ले-आउट का आवेदन दिया गया अथवा नहीं। 1 लाख 45 हजार वर्गफीट के मेन रोड वाले इस प्लाट के साथ रसूखदारों के नाम भी उछल रहे हैं।

दैनिक भास्कर ने इस मामले तो तब प्रकाशित किया था, जब बिना किसी मंजूरी के काम शुरू होने के बाद निगम के अफसरों ने इसकी जानकारी मांग ली थी। लेकिन बताते हैं कि जबर्दस्त दबाव के बाद नगर निगम पड़ताल से पीछे हट गया। बहरहाल, मामले का खुलासा होने के बाद इस प्लाट पर चल रहे सारे काम बंद कर दिए गए हैं। मुख्य प्रवेश द्वार पर ताला लगा दिया गया है। जमीन पर काम कर रहे मजदूरों को भी वहां से हटा दिया गया है।

मैंने प्लाटिंग नहीं की, समतल करवा रहा था : बसंत अग्रवाल
फाफाडीह प्रोजेक्ट साइट के प्रमुख बसंत अग्रवाल ने भास्कर से कहा कि वह प्लाटिंग नहीं कर रहे थे। शराब दुकान के पीछे कुछ कच्चे निर्माण थे जिन्हें तोड़कर जमीन समतल की गई है। अब सभी जरूरी विभागों से मंजूरी ली जाएगी। इसके बाद प्लॉटिंग की जाएगी। बसंत अग्रवाल ने दावा किया कि कोई काम नियमों के खिलाफ नहीं है, इसलिए निगम ने भी नोटिस नहीं दिया है।

खबरें और भी हैं...