पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चार दिन की रिमांड पर अभी एसीबी की कस्टडी में:मुख्यालय में की जा रही पूछताछ, जीपी की हर गतिविधि कैमरे में रिकार्ड फिर भी नहीं दे रहे सवालों के जवाब

रायपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एसीबी की कस्टडी में एडीजी जीपी सिंह की एक-एक गतिविधि की वीडियो रिकार्डिंग की जा रही है। पूछताछ के दौरान भी उनकी एक्टिविटी को कैमरे में रिकार्ड किया जा रहा है। जीपी न तो किसी सवाल का जवाब दे रहे हैं और न ही दस्तावेजों में हस्ताक्षर कर रहे हैं। सुबह-शाम उनका डाक्टरी चेकअप भी करवाया जा रहा है। कभी-कभी वे अचानक कहने लगते हैं मुझे कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। फिर कहने लगते हैं मुझे कंपकपी लग रही है।

भ्रष्टाचार और आय से अधिक संपत्ति के मामले में निलंबित एडीजी जीपी सिंह पिछले 2 दिनों से एंटी करप्शन ब्यूरो एसीबी की कस्टडी में है। एसीबी उनसे प्रापर्टी के दस्तावेजों के संबंध में पूछताछ कर रही है। वे किसी भी दस्तावेज को अपना नहीं मान रहे हैं। कई बार दस्तावेज दिखाने पर वे कहने लगते हैं कि मुझे कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। फिर हाथ कंपकपाने की बात कहते हैं। एसीबी के अफसरों ने उन्हें हां ना वाली प्रशनावली लिखकर दी। उसका फार्मेट इस तरह से बनाया गया कि जीपी को केवल हां और ना में टिक लगाकर जवाब देना था। अफसरों के अनुसार जीपी उसमें भी राजी नहीं है।

किसी दस्तावेज में हस्ताक्षर करना तो दूर उन्होंने हां और ना में टिक लगाने से भी इनकार कर दिया है। परिवार के सदस्यों के नाम पर मिले दस्तावेजों को भी वे अपना मानने से इनकार कर रहे हैं। वे साफ कह रहे हैं कि ये मेरे परिवार के किसी सदस्य की प्रापर्टी नहीं है। चूंकि जीपी ने कोर्ट में कहा है कि वे एसीबी के साथ पूरा सहयोग कर रहे हैं, इसलिए एसीबी के अफसर उनकी एक-एक गतिविधि काे कैमरे में रिकार्ड कर रहे हैं। अफसरों ने संकेत दिए हैं कि जरूरत पड़ने पर सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग का उपयोग किया जाएगा।

8-8 घंटे की शिफ्ट में 24 घंटे निगरानी डीएसपी रैंक के अफसर को जिम्मा
एसीबी की कस्टडी में जीपी को ईओडब्लू-एसीबी के जीई रोड स्थित मुख्यालय में रखा गया है। वहां के कांफ्रेंस हॉल में उनके रहने और सोने की व्यवस्था की गई है। कस्टडी में उनकी 24 घंटे निगरानी की जा रही है। 8-8 घंटे की शिफ्ट में तीन टीमों की ड्यूटी लगाई गई है। तीनों टीमों में डीएसपी रैंक के अफसर को रखा गया है। उनके अलावा एक इंस्पेक्टर, एक सब इंस्पेक्ट, हवलदार और तीन-तीन जवानों को तैनात किया गया है। तीन अधिकारी और जवान तो हर समय उनके कमरे में मौजूद रहते हैं। फिलहाल उन्हें किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा है। निलंबित एडीजी ने एक बार वकील से मिलने का आग्रह किया था। उसके बाद उनके वकील को बुलाया गया था।

बढ़ गया था बीपी, दवा देनी पड़ी
निलंबित एडीजी के रहन सहन के अलावा उनके स्वास्थ्य का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है। सरकारी डाक्टर से उनका चेकअप करवाया जा रहा है। इस बीच एक दफा उनका बीपी बढ़ा हुआ निकला था। उसके बाद डाक्टर ने उन्हें बीपी की दवा दी। फिलहाल उनकी तबीयत पूरी तरह से ठीक बतायी जा रही है। बीपी भी नार्मल है।

मंगलवार को करेंगे कोर्ट में पेश
निलंबित एडीजी को रिमांड की अवधि पूरी होने पर मंगलवार को एसीबी की विशेष कोर्ट में पेश किया जाएगा। एसीबी ने जीपी को पिछले मंगलवार को दिल्ली गुड़गांव से गिरफ्तार किया था। उसके बाद से वे एसीबी की कस्टडी में हैं। उन्हें कोर्ट में पिछले बुधवार को पेश किया गया था। उस समय दो दिन की रिमांड मिली थी। दो दिन गुजरने के बाद उन्हें न्यायालय में पेश कर फिर पांच दिन की रिमांड मांगी गई थी। कोर्ट ने चार दिन की रिमांड दी है। मंगलवार को रिमांड की मियाद पूरी होगी।

खबरें और भी हैं...