पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %

अगले बरस तू जल्दी आ...:रायपुर के खारुन तट पर गूंजा जय देव..जय देव, अस्थाई कुंड में प्रतिमाएं की गई विसर्जित, 22 सितंबर तक जिला प्रशासन देगा सुविधा

रायपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तस्वीर रायपुर के महादेव घाट की।

रविवार को अनंत चतुर्दशी की पूजा के बाद लोगों ने पिछले 10 दिनों से घरों में और पंडालों में विराजमान भगवान गणेश को विदा किया। रायपुर के महादेव घाट स्थित खारुन नदी के तट पर अस्थाई कुंड बनाया गया था। यहां पर पहुंचे लोगों ने प्रतिमा की विदाई आरती उतारी। छोटी घंटियों और मंत्रों के उच्चारण से खारुन नदी का किनारा दिन भर गूंजता रहा। जय देव... जय देव... जय मंगलमूर्ति गीत और मंत्रों का पाठ करते लोग नजर आए। नगर निगम की तरफ से तय किए गए वॉलिंटियर्स की मदद से अस्थाई कुंड में प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया।

रायपुर के महादेव घाट पर श्रद्धालु।
रायपुर के महादेव घाट पर श्रद्धालु।

जिला प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक 19 को सुबह 6 बजे से 22 सितम्बर को दोपहर 2 बजे तक खारुन नदी तट पर बने कुंड में प्रतिमाएं विसर्जित हो सकेंगी। इस दौरान नगर निगम के लोगों की यहां ड्यूटी लगाई गई है। शहर के कई तालाबों के किनारे नगर निगम ने अस्थाई विसर्जन कुंड रखवाए हैं। खारुन तट पर लोगों की सुरक्षा के लिहाज से SDRF, पुलिस और जिला प्रशासन के अफसरों की टीम भी तैनात रहेगी। दिन ढलने के बाद प्रतिमाओं को विसर्जित करने की अनुमति नहीं मिलेगी।

रायपुर के सांसद सुनील सोनी परिवार के साथ।
रायपुर के सांसद सुनील सोनी परिवार के साथ।
रायपुर निगम सभापति प्रमोद दुबे।
रायपुर निगम सभापति प्रमोद दुबे।
पूर्व मंत्री केदार कश्यप परिवार के साथ।
पूर्व मंत्री केदार कश्यप परिवार के साथ।

इन नियमों का करना होगा पालन

  • मूर्ति विसर्जन के दौरान प्रसाद, चरणामृत या कोई भी खाने-पीने की चीजें बांटी नहीं जाएंगी।
  • मूर्ति विसर्जन के लिए एक से अधिक वाहन की अनुमति नहीं होगी।
  • विसर्जन के लिए सिर्फ पिकअप, टाटा एस जैसे छोटे वाहनों का इस्तेमाल किया जाएगा।
लेखराज, हिमांशी, लाल्ली,हषिता ईशा,अशु, एवं समस्त जंघेल परिवार स्टेशन रोड, लोधी पारा रायपुर
लेखराज, हिमांशी, लाल्ली,हषिता ईशा,अशु, एवं समस्त जंघेल परिवार स्टेशन रोड, लोधी पारा रायपुर
  • विसर्जन के लिए सिर्फ चार लोग ही जा सकेंगे, यह चारों उसी गाड़ी में होंगे जिस गाड़ी में मूर्ति होगी।
  • किसी भी अतिरिक्त साज-सज्जा झांकी की अनुमति नहीं होगी।
  • विसर्जन के लिए नगर निगम द्वारा तय किया गए रूट का ही इस्तेमाल करना होगा।
  • शहर के भीड़भाड़ वाले इलाकों से मूर्ति विसर्जन के लिए वाहन ले जाने की अनुमति नहीं होगी, रिंग रोड का इस्तेमाल करना होगा।
खबरें और भी हैं...