पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्म- समाज:गुरु पूजन महोत्सव में उमड़े भक्त

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डोंगरगांव में पिपल्लेश्वर हनुमान मंदिर प्रांगण में रमणरेती धाम आश्रम में हुआ कार्यक्रम

समीपी मप्र के डोंगरगांव में पिपल्लेश्वर हनुमान मंदिर प्रांगण में रमणरेती धाम आश्रम में शनिवार को गुरु पूजन महोत्सव मनाया गया। यहां पर महामंडलेश्वर गुरु शरणानंद महाराज के चरण पूजन कर गुरु दीक्षा ली गई। इस मौके पर उनकी झलक पाने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। इससे सत्संग परिसर भी छोटा पड़ गया। कार्यक्रम के चलते डोंगरगांव में पूरे दिन मेले जैसा माहाैल रहा। इस अवसर पर नगर को दुल्हन की तरह सजाया गया।

गुरुदेव महाराज के कार्ष्णि आश्रम में प्रवेश करते वक्त भक्तों के जयकारों से पूरा परिसर गूंज उठा। कार्ष्णि सत्संग आश्रम में महामंडलेश्वर गुरु शरणानंद महाराज का पंडित रामगोपाल चतुर्वेदी, चंद्रशेखर चतुर्वेदी, रवि शास्त्री, आचार्य जितेन्द्र, आचार्य विष्णु गौतम के द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार से कार्ष्णि समिति के अध्यक्ष एवं संयोजक बद्रीलाल, मोहनलाल गुप्ता, शान्ताराम, राधेश्याम गुप्ता, पूर्व प्राचार्य नंदकिशोर शर्मा, कैलाशचंद गुप्ता, गिरीश कुमार टेलर, शिक्षक राधेश्याम मेघवाल सहित अन्य सदस्यों ने गुरुदेव महाराज के चरणों का पूजन किया। गुरु पूजन व भंडारे में महिला एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग व्यवस्था की गई।

गुरु पूजन महोत्सव में पूर्व विधायक वल्लभ भाई अम्बावतिया, विधायक राणा विक्रमसिंह, भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष राजेंद्र पालीवाल सहित कई जनप्रतिनिधि ने भी पहुंचकर आशीर्वाद लिया। तत्पश्चात गुरुदेव महाराज ने भक्तों को आर्शीवचन देते हुए कहा कि गुरु सभी शिष्यों को एक ही (मन्त्र) सूत्र रुप से प्रदान करते हैं। परन्तु अपने स्वभाव अनुसार अर्थ लगाकर शिष्य अपने कर्म को सतो गुण रज गुण वतमो गुण के अनुसार करने लगते हैं।

इस पर प्रजापति ब्रह्मा के द्वारा एक अक्षर दा ईति का अर्थ मनुष्य ने दान, देवताओं ने दया परन्तु राक्षसों ने दमन अर्थ समझकर समाज को समझाने का काम किया। गुरुदेव के आर्शीवचन के साथ ही समापन हुआ। गुरु पूजन महोत्सव में मेड़तवाल महिमा मातृ शक्ति एवं मेड़तवाल वैश्य समाज, राठौर तेली समाज, महाजन, टेलर दर्जी समाज, श्रंगी ब्राहम्ण समाज ने भक्तों के लिए खिचड़ी, चाय, दूध, फरियाली, शीतल जल की व्यवस्था देकर धर्म का लाभ लिया। समिति अध्यक्ष बद्रीलाल गुप्ता ने आभार माना।

खबरें और भी हैं...